डॉक्टर से मिलने गए मरीज अस्पताल में अपना ख्याल रखने के लिए हर तरह की कोशिश करते हैं। बीमारी से लेकर दवाइयों तक के बारे में वह सबकुछ जानना चाहते हैं। लेकिन शायद ही कोई डॉक्टर्स और अन्य कर्मियों के कपड़ों पर ध्यान देता है। ज्यादातर लोग डॉक्टर्स के पहने हुए सफेद कोट को साफ-सुथरा समझते हैं। आपको बता दें कि एक हालिया स्टडी में पता चला है कि इन सफेद कोटों में कई नुकसानदायक कीटाणु हो सकते हैं।


अमेरीका में एक सिस्टमेटिक रिव्यू में पाया गया कि डॉक्टर्स के सफेद कोट पर अकसर कई तरह के ड्रग रेसिस्टेंट बैक्टीरिया होते हैं। डॉक्टर्स के कोट पर कई तरह के बैक्टीरिया पाए गए जिनसे गंभीर स्किन और ब्लड इन्फेक्शन और निमोनिया जैसी खतरनाक बीमारियां हो सकती हैं। सिर्फ डॉक्टर्स के कोट ही नहीं, स्टेथोस्कोप, फोन और नर्स की यूनिफॉर्म में भी कई तरह के कीटाणु होते हैं।


अब सवाल यह है कि इससे बचा कैसे जा सकता है। स्टडीज के अनुसार ऐंटीमाइक्रोबियल टेक्सटाइल के इस्तेमाल से कुछ तरह के कीटाणुओं से बचा जा सकता है। इन कपड़ों की रोज धुलाई से भी यह समस्या कुछ हद तक कम हो सकती है। हालांकि, स्टडीज के अनुसार इन कपड़ों पर कुछ ही घंटों में फिर से कीटाणु आ सकते हैं।


अमेरीकी फीजिशियन्स पर की गई एक स्टडी में पाया गया कि कई डॉक्टर्स करीब एक हफ्ते तक अपने कोट नहीं धोते हैं। 17% डॉक्टर्स करीब एक महीने तक अपने कोट नहीं धोते हैं। लंदन की भी कई स्टडीज में डॉक्टर्स के कोट और टाई को लेकर ऐसी ही बातें सामने आई थीं।

Source : Agency