जबलपुर
कांंग्रेस के लोकसभा प्रत्याशी विवेक तन्खा द्वारा दिल्ली में भारत निर्वाचन आयोग से की गई शिकायत के बाद अपर आयुक्त संदीप यादव व उप मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी राजेश श्रीवास्तव ने जबलपुर में जांच एवं सुनवाई शुुरु की। मामला केंट विधानसभा क्षेत्र के मतदान केंद्र पर सैनिकों द्वारा बिना परिचय पत्र के वोटिंग करने से जुड़ा है, जिसमें  कहा गया कि अपात्र होने के बाद भी पीठासीन अधिकारी ने उन्हें मतदान का अवसर दिया।

 जिला निर्वाचन अधिकारी कलेक्ट्रेट कार्यालय में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय के राजेश श्रीवास्तव एवं जिला निर्वाचन अधिकारी कलेक्टर छवि भारद्वाज की मौजूदगी में शिकायतकर्ता केंट के कांग्रेस नेता भी मौजूद रहे। अपर आयुक्त संदीप यादव द्वारा शिकायतकर्ताओं द्वारा सौंपी गई वोटर लिस्ट से लेकर जिला निर्वाचन की वोटर लिस्ट का मिलान किया जा रहा है और नाम जोड़े जाने की प्रक्रिया की स्क्रूटनी करने पुराने दस्तावेज बुलवाए गए हैं। बंद कमरे में चल रही जांच के दौरान बताया जा रहा है कि प्रारंभिक तौर पर मामले में तकनीकी और लिपिकीय त्रुटि पकड़ ली गई है। 

राज्यसभा सदस्य विवेक तन्खा के प्रतिनिधि प्रेम दुबे ने कहा कि मतदाता होने के लिए जिन दस्तावेजों की जरूरत होती है वह केंट में रहने वाले सैनिकों ने पूरी नहीं की। उन्हें शून्य पता होने पर बगैर मतदाता परिचय पत्र के वोट डालने दिया गया, जो बड़ी गड़बड़ी है। कांग्रेस ने संबंधित पोलिंग बूथों पर पुन: मतदान की मांग की है।

Source : Agency