सतना
सतना में एक परिवार ने ज़िम्मेदार नागरिक की भूमिका अदा की. यहां एक परिवार की बुज़ुर्ग मां का निधन हो गया. परिवार ने दाह संस्कार करने से पहले लोकतंत्र के इस महापर्व के प्रति ज़िम्मेदारी निभाना अपना फर्ज़ समझा. परिवार ने मां का अंतिम संस्कार करने से पहले मतदान करना ज़रूरी समझा.

सतना के पूर्व पार्षद अशोक केसरबानी की मां का आज अल सुबह निधन हो गया. मां शांति केसरबानी था, वो बुज़ुर्ग थीं. मां के निधन से परिवार विचलित तो हुआ, लेकिन उसने संयम से काम लिया. पूरे परिवार ने मां का अंतिम संस्कार करने से पहले मतदान करने का फैसला किया. पूरा परिवार सतना के टिकुरिया टोला आया और पूरी शांति औऱ धैर् के साथ यहां कतार में लगकर अपनी बारी आने का इंतज़ार किया. पूरे परिवार ने वोट डाला और फिर सेल्फी खींचकर मतदाताओं को मतदान का संदेश दिया.

होमगार्ड सैनिक की मौत
बैतूल में मतदान से पहले एक होमगार्ड सैनिक की मौत हो गयी. सैनिक का नाम महेश दुबे है. मौत का कारण हार्ट अटैक बताया जा रहा है. होमगार्ड सैनिक का नाम महेश दुबे है. उनकी यहां मतदान केंद्र क्रमांक 60 पर चुनाव ड्यूटी लगी थी. महेश जबलपुर में पदस्थ थे, ड्यूटी पर यहां आए थे. मतदान शुरू होने से पहले सुबह बाथरूम में उनका शव मिला.

Source : Agency