प्रेगनेंसी के दौरान ज्‍यादा आलू खाने से डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है। एक रिसर्च में ये बात सामने आ चुकी है ज्‍यादा आलू खाने से महिलाओं को प्रेगनेंसी के दौरान गर्भावधि मधुमेह होने का डर रहता है। जो मां के साथ ही गर्भस्‍थ शिशु के ल‍िए भी मुसीबत बन सकता है। प्रेगनेंसी के दौरान खान पान का ध्‍यान रखना बहुत जरुरी होता है। गर्भावधि मधुमेह खून में ग्‍लकोज की मात्रा बढ़ने की वजह से होता है। हालांकि आमतौर पर ये किसी समस्‍या का लक्षण नहीं बनता है लेकिन प्रसव के दौरान इसकी वजह से जटिलताएं हो सकती हैं।


शोध में कहा गया है कि प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को आलू के सेवन से बचना चाहिए। कई महिलाओं को गर्भावस्‍था के दौरान चिप्‍स और फ्रेंच फ्राइस खाने की क्रेविंग होती है। लेकिन इस दौरान आलू की जगह दूसरी हरी सब्जियों का सेवन करना अधिक हेल्दी होता है। यह बच्चे के शारीरिक विकास के लिए भी जरूरी होता है। प्रेगनेंसी के दौरान अधिकतर महिलाओं को शुगर की समस्या हो जाती है। ऐसा खून में शुगर की मात्रा बढ़ने से होता है।


शोधकर्ताओं का कहना है कि आलू में उच्‍च स्‍तर में ग्लाइसेमिक इंडेक्स (जीआई) होता है जो खाने के बाद खून में बहुत ही कम अवधि में अधिक मात्रा में ग्‍लूकोज बनाने का काम करता हैं। कुछ विशेषज्ञों का माना है कि इस वजह से डायबिटीज की समस्‍या होती है।


1991 से 2001 के दौरान हुए शोध में विशेषज्ञों ने लगभग 15000 महिलाओं को शामिल किया था। इन महिलाओं को शुरुआत में डायबिटिज की समस्या नहीं थी, लेकिन जब उन्होंने प्रेग्नेंसी में आलू का सेवन शुरू किया तो उनके शरीर में शुगर की मात्रा तेजी से बढ़ने लगी। कई अन्य शोध भी यह साबित करते हैं कि प्रेग्नेंसी में आलू आपके लिए किस कदर हानिकारक हो सकता है। ऐसे में इसके सेवन से बचना ही आप दोनों के लिए हेल्दी होगा।

Source : Agency