ऑफिस में लम्‍बी देर तक सिटिंग की वजह से कई बार पीठ दर्द और कंधों में दर्द होने लगता है। ऐसा कई घंटो तक एक ही पॉश्‍चर में बैठे रहने की वजह से होता है। कई बार होता है कि कुछ भारी भरकम चीज उठाने और रात को गलत तरीके से सोने की वजह से भी कंधे में दर्द होने लगता है। मार्जरी आसन के नियमित अभ्यास से गर्दन, कंधे और पीठ में लचीलापन आता है। इन समस्याओं के लिए मार्जरासन आसन काफी लाभदायक है।

मार्जरासन एक आगे की ओर झुकने और पीछे मुड़ने वाला योग आसन हैं इसे कुछ लोग मार्जरी आसन और कैट पोज़ के नाम से भी जानते हैं। यह मासिक धर्म के दौरान पैरों और जांघों में जकड़न के लिए भी इसे करना गुणकारी हो सकता है।

ऐसे करे मार्जरासन

इस आसन को करने के ल‍िए सबसे पहले वज्रासन की मुद्रा में बैठे। पहले अपने दोनों हाथों के फर्श पर आगे की ओर रखें। अपने दोनों हाथों पर थोड़ा सा भार डालते हुए अपने हिप्‍स यानी कूल्‍हों को ऊपर उठाएं। मेरूदंड (पीठ की हड्डी), गर्दन और सिर को एक सिधाई में रखिए। इस अवस्था में मेरूदंड को बिलकुल भी झुकाना नहीं चाहिए।इस आसन क्रिया में शरीर का पूरा भार हथेलियों और घुटनों पर एक समान रूप से डालिए। हिप्स को अंदर की ओर लीजिए और कमर को छत के ऊपर की तरफ उठाइए। इस मुद्रा में 3 सेकंड तक रहें। सिर को छत की दिशा में उठाते हुए सामने की तरफ देखिए। इस मुद्रा को कम से कम 5-7 बार दोहराइए।


ये होता है फायदा

मार्जरासन करने से शरीर का तनाव दूर होता है। इस आसन को करके शरीर को चुस्त और दुरुस्त बनाया जा सकता है। इस योग मुद्रा से शरीर में रक्त-संचार सुचारू तरीके से होता है। मार्जरासन से कंधों, कमर और हिप्स में जिस प्रकार से खिंचाव होता है। जिससे यहां का दर्द दूर होता है।

Source : Agency