Google अपने यूजर्स के लिए एक नया प्रिवेसी फीचर लेकर आया है। इस फीचर की मदद से यूजर्स अपनी वेब और ऐप एक्टिविटी को डिलीट कर सकते हैं। यूजर्स अपने डेटा को 3 से 18 महीने के पीरियड तक डिलीट कर सकते हैं। हाल ही में हुए गूगल के एक इवेंट में सीईओ सुंदर पिचई ने कहा, 'हमारी कोशिश रहती है कि हम अपने प्रॉडक्ट्स को यूजर्स की प्रिवेसी के लिए और बेहतर करें। हमारा मानना है कि प्रिवेसी और सिक्यॉरिटी सभी के लिए बेहद जरूरी है।'

इस फीचर की मदद से यूजर्स के पास अब यह ऑप्शन है कि वह अपने डेटा को गूगल के पास कब तक रखना चाहते हैं। यूजर द्वारा तय की गई समय सीमा के बाद यह डेटा ऑटोमैटिकली डिलीट हो जाएगा। आइए जानते हैं कि गूगल के इस फीचर को आप कैसे ऐक्टिवेट और इस्तेमाल कर सकते हैं।

ऐसे करें इस फीचर को ऐक्टिवेट
1- सबसे पहले अपने गूगल अकाउंट पर लॉग इन करें।
2- गूगल अकाउंट में ऊपर दाईं तरफ मौजूद अपनी फोटो पर क्लिक करें।
3- क्लिक करने के बाद फोटो के नीचे आपको गूगल अकाउंट का बटन दिखेगा।
4- बटन पर क्लिक कर अगले पेज पर जाएं।
5- बाईं तरफ दिए गए 'Data & personalization' ऑप्शन पर क्लिक करें।
6- क्लिक करते ही आपकी स्क्रीन पर ऐक्टिविटी कंट्रोल का ऑप्शन दिखेगा।
7- यहां आपको Web & App Activity पर क्लिक करना है।
8- दाईं तरफ गिए गए बटन को ऑन करें।
9- नीचे मौजूद मैनेज ऐक्टिविटी में जाएं।
10- ऐसा करते ही आपके स्क्रीन पर Web & App Activity पेज खुल जाएगा।
11- यहां आप देख सकते हैं कि आपके अकाउंट पर यह फीचर ऐक्टिवेट है या नहीं।
12- यहां आपको 'Choose to delete automatically' का ऑप्शन मिलेगा।
13- इस ऑप्शन पर जाकर आप चुन सकते हैं कि आपको डेटा 18 महीने, 3 महीने पर डिलीट करना है।
14- अगर आप कोई ऑप्शन नहीं चुनते हैं तो आपका डेटा मैन्युअली डिलीट ना किए जाने तक गूगल के पास मौजूद रहेगा।

लोकेशन हिस्ट्री के बारे में बात करते हुए गूगल ने बताया कि यह फीचर आने वाले कुछ हफ्तों में रोलआउट कर दिया जाएगा। इस फीचर की मदद से यूजर्स अपने लोकेशन डेटा को भी डिलीट कर सकेंगे।

Source : Agency