इंदौर 
कांग्रेस नेता और पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू शेर-ओ-शायरी को लेकर काफी मशहूर हैं. अब उन पर इंदौर के एक शायर ने गंभीर आरोप लगाया है. पिछले दिनों भोपाल में पार्टी प्रत्याशी दिग्विजय सिंह के समर्थन में सिद्धू ने कहा था, 'सोच समझकर बोला ही मुंह खोला सिद्धू ने, जब भी बोला है, सच बोला सिद्धू ने, सच से देखें कितने घायल होते हैं, छोड़ दिया है तोप का गोला सिद्धू ने.' कांग्रेस नेता ने इन पंक्तियों को बोल कर लोगों की खूब वाह-वाही बटोरी थी. लेकिन, दिग्विजय सिंह के समर्थन में कही गई इन लाइनों को लेकर उन पर सवाल उठने लगे हैं.

दरअसल, नवजोत सिंह सिद्धू पर इन लाइनों के चलते इंदौर के शायर भगवान फकीर ने सवाल उठाते हुए गंभीर आरोप लगाए हैं. भगवान फकीर ने कहा कि ये लाइनें उन्‍होंने 15 फरवरी को पीएम मोदी के लिए लिखी थीं. उनका दावा है कि मूल रचना में उन्‍होंने 'सिद्धू' की जगह 'मोदी' शब्द लिखे थे. भोपाल में दिग्विजय सिंह के समर्थन में कही गई शायरी में पीएम मोदी की जगह अपना नाम जोड़कर सुना दिया. गौरतलब है कि भगवान फकीर सिद्धू के लिए शेरो-शायरी लिखते थे और सिद्धू उन्हें गुरु और पिता के बराबर मानते थे. हालांकि, सिद्धू के कांग्रेस में जाते ही भगवान ने उनसे दूरी बना ली.

भगवान फकीर ने सिद्धू पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने उनकी और भी लाइनें सोशल मीडिया से चुराकर भोपाल प्रचार के दौरान सुनाई थीं. उन्होंने अपना दर्द बयां करते हुए लिखा, 'सिर कटा के कर दीजिए सिद्धू के हवाले, हंस-हंस कर कह रहे हैं मेरे जख्मों के छाले, मैं अमानत हूं गरीबों की, बचा ले, मेरे नानक सिद्धू की तरह कोई मुझे बेच न डाले.’

Source : Agency