वॉशिंगटन
भारतीय मूल की पहली अमेरिकी सांसद कमला हैरिस ने कहा है कि अमेरिका को सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक को बांटने पर गंभीरता से विचार करना चाहिए। उन्होंने कहा कि फेसबुक एक ऐसी सुविधा है जिस पर कोई रेग्युलेशन लागू नहीं है। हैरिस 2020 के राष्ट्रपति चुनाव की होड़ में भी शामिल हैं। वह अभी कैलिफोर्निया से सांसद हैं जहां फेसबुक समेत अन्य अमेरिकी आईटी कंपनियों का मुख्यालय है।


हैरिस ने रविवार को सीएनएन से एक इंटरव्यू में कहा कि फेसबुक ने काफी वृद्धि की है और उसने अपने कारोबार की वृद्धि को उपभोक्ताओं के हितों, खासकर उनकी निजता के अधिकार के ऊपर रखा है। उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि हमें गंभीरता से इसे देखना चाहिए। जब आप इसे देखेंगे, यह मूलत: एक उपयोगी सार्वजनिक सेवा है। ऐसे बहुत कम लोग हैं जो इससे बचे हुए हैं। हर कोई अपने समुदाय और समाज में और अपने पेशे में किसी न किसी स्तर पर फेसबुक का इस्तेमाल कर रहा है। वाणिज्य के किसी भी स्तर पर लोगों से फेसबुक के बिना जुड़ना बहुत मुश्किल है।'

हैरिस ने कहा, 'इसलिए हमें इसकी वह पहचान करनी होगी जो वास्तव में यह है। यह आवश्यक सेवा है और यह नियमन के दायरे में अभी नहीं है। जहां तक मेरी बात है, इसके अनियमित रूप से चलने पर रोक लगनी चाहिए।' इससे पहले 2020 के राष्ट्रपति चुनाव की उम्मीदवारी की एक अन्य डेमोक्रेट दावेदार सांसद एलिजाबेथ वॉरेन ने भी फेसबुक को बांटने की संभावना तलाशने पर जोर दिया था।

फेसबुक को-फाउंडर ने उठाई आवाज
पिछले दिनों फेसबुक के को-फाउंडर क्रिस ह्यूज ने भी कहा था कि अब फेसबुक को तोड़ने (अलग-अलग हिस्सों में बांटने) का समय आ गया है, क्योंकि जकरबर्ग के पास अनियंत्रित शक्ति आ गई है। ह्यूज ने आरोप लगाया था कि फेसबुक ने यूजर्स की सिक्यॉरिटी से समझौता किया है। उन्होंने कहा था कि जकरबर्ग का दुनिया पर प्रभाव हैरान करने वाला है। उन्होंने इसे उद्यमिता के लिए खतरा बताते हुए कहा था कि मार्क के पास लोगों की अभिव्यक्ति पर एकतरफा नियंत्रण है। उन्होंने अमेरिकी सरकार से अपील की थी कि वॉट्सऐप और इंस्टाग्राम को फेसबुक से अलग कर दिया जाए।

मार्क जकरबर्ग का जवाब
फेसबुक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) मार्क जकरबर्ग ने कंपनी को तोड़ने की मांग यह कहते हुए खारिज कर दी है कि फेसबुक का आकार वास्तव में अपने यूजर्स और लोकतांत्रिक प्रक्रिया की सुरक्षा के लिए फायदेमंद है। उन्होंने कहा, 'इसलिए मुझे लगता है कि अगर आप लोकतंत्र और चुनावों की चिंता करते हैं तो हमारी जैसी कंपनी को प्रतिवर्ष अरबों डॉलर का निवेश करने में सक्षम होना होगा, जैसे हम चुनावी दखल से निपटने के लिए आधुनिक औजार बनाने में प्रयासरत हैं।'

Source : Agency