नई दिल्ली 

मृणाल सेन भारत के उन चुनिंदा निर्देशकों में शामिल हैं जो देश का सिनेमा सरहद पार लेकर गए. उनकी फिल्मों ने देश ही नहीं बल्कि दुनियाभर में नाम कमाया. कई सारे इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में मृणाल सेन की फिल्मों की स्क्रीनिंग की गई. मृणाल ने नील अक्षर नीचे, भुवन शोम, इंटरव्यू, कोलकाता 71, मृगया और एक दिन अचानक जैसी फिल्मों का निर्देशन किया. ऐसे तो मृणाल ने कई सारे अंतरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल में शिरकत की मगर कान्स के साथ उनका एक अलग ही नाता रहा. मृणाल सेन का जन्म 14 मई, 1923 को फरीदपुर, बंगाल में हुआ था. मृणाल के 96वें जन्मदिन पर बता रहे हैं क्या था मृणाल का कान्स कनेक्शन.

मृणाल सेन के बेटे कुणाल सेन ने अपने पिता के कान्स कनेक्शन को लेकर बातें की थीं. उन्होंने बताया- पिता का जन्मदिन कान्स के समय ही पड़ता था. उन्होंने अपने कई सारे जन्मदिन कान्स में बिताए हैं. कुणाल ने मेल के जरिए एक न्यूज पोर्टल से बातचीत के दौरान बताया था- वे (मृणाल सेन) कभी अपना जन्मदिन नहीं मनाते थे. मगर एक साल उनके दोस्तों ने कान्स में उनके लिए सरप्राइज पार्टी रखी. पार्टी बड़ी धूमधाम से मनाई गई. वे इतनी अटेंशन से थोड़ा शर्मा जाते थे. मुझे अभी भी याद है जब मेरे पैरेंट्स कोलकाता वापस आते थे तो काफी खुश रहते थे और उत्सुकता के साथ ये किस्सा शेयर करते थे. साल 1983 में मृणाल की फिल्म खारिज को स्पेशल जूरी अवॉर्ड मिला था.

मृणाल के कान्स विजिट का एक और दिलचस्प किस्सा साझा करते हुए कुणाल ने बताया- वे साल 1982 कान्स में मेंबर ऑफ जूरी के तौर पर गए थे. वहां पर नॉवेलिस्ट गेब्रियल, गेर्सिया मार्क्वेज भी जूरी का हिस्सा थे. इस दौरान दोनों की काफी अच्छी बॉन्डिंग हो गई थी. बाद में दोनों ने हवाना में एक फिल्म स्कूल में काफी समय साथ वक्त बिताया. मृणाल कान्स से वापस जब आए तो उनके पास गेब्रियल की फेमस बुक One Hundred Years of Solitude की कॉपी थी. उसके कुछ साल बाद सुनने में आया कि गेब्रियल को अंग्रेजी लिटरेचर के लिए नॉबेल प्राइज से भी सम्मानित किया गया.

मृणाल के बाद के समय के कान्स कनेक्शन के बारे में बात करते हुए बेटे कुणाल ने बताया- साल 2010 में कान्स ने डिसाइड किया कि उनकी फिल्म खानदान की स्क्रीनिंग कान्स क्लासिक सेक्शन में की जाएगी. उस समय पिता की उम्र 87 साल हो चुकी थी. वे एक आखिरी बार कान्स जाने के लिए बेहद इच्छुक थे. मगर मेरी मां काफी बीमार थीं और उनके साथ कान्स नहीं जा सकती थीं. साथ में वे ये भी नहीं चाहती थीं कि मृणाल इस उम्र में अकेले ट्रैवल करें. इस वजह से मृणाल, कान्स का हिस्सा नहीं बन पाए. अपनी फिल्मों के जरिए समाज के अलग-अलग पहलुओं को कैमरे में कैद करने वाले महान फिल्म निर्देशक मृणाल सेन, 30 दिसंबर, 2018 को 95 साल की उम्र में हमेशा के लिए इस जहां से रुखसत हो गए.

Source : Agency