नई दिल्ली

आईपीएल-12 की शुरुआत से पहले इस करीब डेढ़ महीने लंबे टूर्नमेंट में प्लेयर्स के वर्कलोड को लेकर खूब चर्चा हुई, क्योंकि इस टूर्नमेंट के बाद वर्ल्ड कप का आयोजन होना है। हालांकि आईपीएल फाइनल में पहुंचने के बाद मुंबई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा ने कहा कि आईपीएल में वर्कलोड को लेकर कोई परेशानी नहीं हुई, अलबत्ता इस टूर्नमेंट के जरिए वर्ल्ड कप की अच्छी तैयारी हो गई। एक कप्तान के तौर पर रोहित के लिए यह टूर्नमेंट शानदार रहा, लेकिन एक बल्लेबाज के तौर पर देखा जाए तो वह शायद खुद भी अपने प्रदर्शन से निराश होंगे। 

30 मई से इंग्लैंड में शुरू हो रहे वर्ल्ड कप में भारतीय अभियान का अहम हिस्सा रहने वाले रोहित का बल्ला आईपीएल में खास नहीं चला। उनके अलावा भारतीय वर्ल्ड कप टीम में शामिल अन्य प्लेयर्स में से कुछ ने आईपीएल के दौरान अपनी लय खो दी वहीं कुछ ने खोई लय हासिल कर ली। वर्ल्ड कप की तैयारियों के लहजे से यह आईपीएल भारतीय टीम के लिए कैसा रहा, डालते हैं उसपर एक नजर। 

ओपनिंग में फिफ्टी-फिफ्टी:
रोहित शर्मा (मैच-15 रन-405, ऐवरेज-28.92, 50- 2): रोहित ने पिछले दो सीजन के मुकाबले इस सीजन ज्यादा रन बनाए, लेकिन उनके बल्ले से एक भी मैच विनिंग पारी नहीं निकली। बड़ी पारी खेलने में माहिर रोहित केवल दो हाफ सेंचुरी लगा सके। भारतीय टीम को अगर वर्ल्ड कप में विपक्षियों को पस्त करना है तो इस ओपनर का पूरी लय में लौटना बेहद जरूरी होगा। 
इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का 12वां सीजन खत्म हो गया है। इस सीजन में कई चीजें ऐसी हुईं जो लंबे समय तक याद की जाएंगी। अंपायर्स के फैसलों को लेकर चर्चा हो या फिर खिलाड़ियों का रवैया।
 

Source : Agency