कोलकाता
पश्चिम बंगाल के अलीपुरद्वार जिले के 30 छात्रों के एक दल राज्य सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए उनकी गर्मी की छुट्टियों को घटाने की मांग की है। अलीपुरद्वार जिले के बेगम राबिया खातून हाई स्कूल के छात्रों ने प्रदर्शन करते हुए करीब 80 किमी की यात्रा करने के बाद सोमवार को इस संबंध में एक पत्र यहां के जिला शिक्षा अधिकारी को भेजा है। अधिकारी से मिलने पहुंचे छात्रों की दलील है कि विभाग ने स्कूल में दो महीने की छुट्टी का आदेश दिया है, जिसके कारण उनकी पढ़ाई प्रभावित हो सकती है। इससे पहले बंगाल सरकार ने राज्य में फोनी तूफान के बाद यहां 2 मई से 30 जून तक छुट्टियों की घोषणा की थी, जिसका छात्रों और शिक्षकों ने विरोध किया था।


दरअसल, पश्चिम बंगाल सरकार की ओर से राज्य में फोनी तूफान आने के बाद स्कूलों में 2 महीने की छुट्टियों का ऐलान किया गया है। इसी के खिलाफ अलीपुरद्वार के इन छात्रों की दलीला है कि अगर छुट्टियों का समय कम नहीं किया जाता तो स्कूलों में सिलेबस पूरा नहीं हो पाएगा और इसका असर बच्चों की पढ़ाई पर होगा। उत्तरी बंगाल में पड़ने वाले अलीपुरद्वार जिले के इन छात्रों ने सोमवार को 80 किमी का सफर तय कर जिला शिक्षा अधिकारी को अपना ज्ञापन सौंपा और छुट्टियों की मियाद कम करने की मांग की। अधिकारियों का कहना है कि उत्तरी बंगाल में भीषण गर्मी को लेकर मौसम विभाग की ओर से अलर्ट जारी होने के बाद ही स्कूलों में छुट्टी कराई गई है।

सिलिगुड़ी जिले में अभिवावकों ने किए प्रदर्शन
वहीं प्रदर्शन करने वाले छात्रों के समूह में शामिल ज्योतिर्मय रॉय नाम के एक स्टूडेंट ने कहा कि हम सभी जिले के दूरस्थ इलाकों में रहते हैं और शिक्षा के लिए एकलौता जरिया सरकारी स्कूल ही हैं। ऐसे में अगर स्कूल की पढ़ाई प्रभावित होती है तो इसका नुकसान छात्रों को होगा। बता दें कि इससे पूर्व सिलिगुड़ी जिले में भी कुछ स्कूली बच्चों के अभिवावकों ने सरकार के फैसले के खिलाफ प्रदर्शन किए थे। वहीं सोमवार को शिक्षा विभाग के कार्यालय पहुंचे अलीपुरद्वार जिले के छात्रों के ज्ञापन पर अधिकारियों ने विचार करने की बात कही। स्थानीय अधिकारियों ने कहा कि इन बच्चों के ज्ञापन को वरिष्ठ अधिकारियों को भेजा जाएगा और उनके निर्णय के अनुसार जरूरी कार्रवाई की जाएगी।
 

Source : Agency