नई दिल्ली 

गेम ऑफ थ्रोन्स में अपनी एक्टिंग से रातों रात स्टार बने पीटर डिक्लेंक की कहानी किसी भी शख़्स के लिए प्रेरणादायक हो सकती है. उनका कद भले ही सामान्य से छोटा हो लेकिन उन्होंने कभी भी इसे अपनी जिंदगी में बाधा नहीं बनने दिया बल्कि अपने दृढ़ संकल्प और मेहनत से दुनिया भर में पहचाने जाने लगे.

पीटर का जन्म 1969 में अमेरिका में हुआ था. उन्हें एकोंड्रोप्लासिया नाम की एक बीमारी थी. इस बीमारी के चलते उन्हें बौनेपन का शिकार होना पड़ा. इस बीमारी में हड्डियों में भी काफी असर पड़ता है. जाहिर है, पीटर अपने हालातों के चलते काफी तनाव में रहते थे. उन्होंने कहा कि मैं जब छोटा था, तब काफी गुस्से में रहता था और मैं मन ही मन अपने आप से बातें करता था और ज्यादा लोगों से खुल भी नहीं पाता था. मेरे आत्मविश्वास को भी शुरुआत में झटका लगा था लेकिन धीरे धीरे मैं इससे उबर गया था.

Source : Agency