सागर
मध्य प्रदेश कांग्रेस में गुटबाज़ी खत्म होने का नाम नहीं ले रही। लोकसभा चुनाव चुनाव में पार्टी में एकजुटता के दावों की भी पोल खुल रही है। ताज़ा मामला सागर जिले का है। जहां एक शादी समारोह में कांग्रेसी आपस में ही भिड़ गए। इतना ही नहीं विवाद इतना बड़ा कि मामला थाने पहुंच गया। जिसके बाद कांग्रेस ने कार्रवाई करते हुए सेवादल के अध्यक्ष को भी हटा दिया। 

दरअसल, सेवादल के अध्यक्ष विजय साहू को कैबिनेट मंत्री ने कुछ दिनों पहले किसी मामले को लेकर फटकार लगाई थी। यही नहीं बैठक के दौरान उनका खामोश रहने के लिए भी मंत्री ने कहा था। राजधानी में हुई इस बैठक में मुख्यमंत्री कमलनाथ भी मौजूद थे। जिसके बाद सेवादल के अध्यक्ष और मंत्री के समर्थकों में ठन गई और उनके बीच नोकझोंक विवाद में बदल गई। 

प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद से ही सेवादल अध्यक्ष को लेकर जिले के एक मंत्री काफी असंतुष्ट थे और उनका कहना था कि कांग्रेस संगठन में इस तरह के लोगों की कोई जरूरत नहीं है। सोमवार को हुए घटनाक्रम के बाद सेवादल के अध्यक्ष विजय साहू को अध्यक्ष पद से हटा दिया गया है और उनकी जगह पर एक अन्य व्यक्ति को आगामी आदेश तक के लिये सेवादल का कार्यकारी अध्यक्ष मनोनीत किया गया है। इस मामले को लेकर सेवादल के अध्यक्ष साहू प्रदेश के एक मंत्री पर जमकर आरोप लगाये हैं और सोशल मीडिया पर भी मंत्री के बारे में लिखकर खूब वायरल किया गया है। सूत्रों की मानें तो यह सब सोमवार को एक समारोह के दौरान हुए घटनाक्रम के बाद सामने आया है। सूत्रों के मुताबिक सोमवार को शहर के एक निजी होटल में एक नेता के यहां शादी समारोह आयोजित था इसी दौरान सेवादल के अध्यक्ष विजय साहू ने एक मंत्री के खिलाफ कुछ अभद्रता पूर्वक शब्द बोल दिये इसके बाद उक्त मंत्री के समर्थकों ने सेवादल अध्यक्ष विजय साहू के साथ जमकर मारपीट कर दी।

Source : Agency