नई दिल्ली
पश्चिम बंगाल में जारी बवाल और रोड शो में हुई हिंसा के लिए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने टीएमसी को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कुछ तस्वीरें दिखाकर दावा किया कि रोड शो में हिंसा टीएमसी के लोगों ने की और टीएमसी के ही गुंडों ने ईश्वर चंद विद्यासागर की प्रतिमा भी तोड़ी। शाह ने बंगाल में टीएमसी के दिन खत्म होने का ऐलान करते हुए कहा कि बीजेपी बंगाल में क्लीन स्वीप करने जा रही है।


बंगाल में हिंसा, बीजेपी के राज्यों में नहीं हुई है हिंसा
बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि बंगाल में 6 चरणों में हिंसा हुई जबकि अन्य राज्यों में इस तरह से हिंसा नहीं हुई। उन्होंने कहा, 'बंगाल में 6 के 6 चरण में हिंसा हुई और इसका मतलब ही है कि हिंसा का कारण ही तृणमूल है बीजेपी नहीं। कल बीजेपी के रोड शो से 3 घंटे पहले ही जो पोस्टर बैनर लगाए थे, उसको हटाने का काम किया गया। पुलिस मूकदर्शक बनी रही। वहां पर हमारे कार्यकर्ताओं को उकसाने का काम किया गया। बीजेपी के पोस्टर उखाड़े गए।'


'CRPF की सुरक्षा के कारण रोड शो से मैं जिंदा बच सका'
तृणमूल पर हमले का आरोप लगाते हुए शाह ने कहा कि कल मैं सौभाग्य से ही सीआरपीएफ सुरक्षा के कारण बचकर निकला। उन्होंने कहा, 'रोड शो के अंदर अभूतपूर्व जनसमर्थन कोलकाता की जनता का मिला। कम से कम दो-ढाई लाख लोग 7 किलोमीटर के रोड शो में शामिल हुए। हमला एक नहीं था, 3 हमले हुए। तीसरे हमले में आगजनी पथराव और कैरोसिन बम से हमला किया गया। जितने भी पथराव करनेवाले लोग थे वो अंदर के थे हम रिसीवर ऐंड पर थे। मेरे रोड शो पर पथराव किया गया। बचाव करने के साधन करता हुआ मैं तस्वीरों में स्पष्ट दिख रहा हूं।'

'टीएमसी के लोगों ने ईश्वर चंद विद्यासागर की प्रतिम तोड़ी'
बीजेपी अध्यक्ष ने टीएमसी के ईश्वर चंद विद्यासागर की प्रतिमा को तोड़ने के आरोप का खंडन किया। उन्होंने टीएमसी पर प्रतिमा तोड़ने का आरोप लगाते हुए कहा, 'हम तो रोड के बाहर थे, गेट लगा था तो अंदर जाकर किसने पथराव किया हम तो बाहर थे। गेट अगर टूटा नहीं है तो कॉलेज के अंदर की प्रतिमा को किसने तोड़ा? सहानुभूति पाने के लिए के लिए ममता बनर्जी के कार्यकर्ताओं ने प्रतिमा तोड़ी। विद्यासागर की प्रतिमा 2 कमरों के अंदर है। मेरा सवाल इतना ही है कि 7.30 बजे की घटना है कॉलेज लॉक था, कॉलेज किसने खोला किसके पास चाबी होती है?'


ममता पर लगाया, वोट बैंक की राजनीति का आरोप
वोट बैंक की राजनीति करने का टीएमसी पर आरोप लगाते हुए बीजेपी अध्यक्ष ने कहा, 'प्रतिष्ठित शिशाशास्त्री की प्रतिमा को तोड़ना निंदनीय है। टीएमसी की उल्टी गिनती बंगाल में शुरू हो गई है। सारे सबूत इंगित करते हैं कि सागर की प्रतिमा को टीएमसी के गुंडों ने तोड़ा है और हारी बाजी को जीतने के लिए तोड़ा। यह सुनिश्चित हो गया है कि बंगाल के अंदर टीएमसी हारने जा रही है। बंगाल के अंदर मेरी 16 सभाएं हुई हैं। हमें मालूम है कि बंगाल की जनता किस ओर जा रही है। जब पंचायत के चुनाव थे तब भी 60 पॉलिटिकल ऐक्टिविस्टों की हत्या की गई।'

चुनाव आयोग की भूमिका पर शाह ने उठाए सवाल
चुनाव आयोग की निष्पक्षता पर सवाल उठाते हुए बीजेपी अध्यक्ष ने कहा, 'सब कुछ देखते हुए चुनाव आयोग को तत्काल कार्रवाई करनी चाहिए। बंगाल के अंदर अपराधियों को हिस्ट्रीशीटरों को चुनाव के दौरान छोड़ दिया जाता है। बाकी राज्यों में परोल, फरलो पर छूटे अपराधियों को चुनाव के दौरान हिरासत में लिया। क्यों चुनाव आयोग चुप बैठा है जब तक गुंडों को पकड़ेंगे नहीं निष्पक्ष चुनाव नहीं होगे।'

Source : Agency