भोपाल
लोकसभा चुनाव के बाद भोपाल में पुलिसकर्मियों को मिलने वाला वीकली अब तक शुरू नहीं हो सका है। पहले कानून व्यवस्था का हवाला देते हुए वीकली आॅफ बंद कर दिया था। अब आचार संहित लगे होने की बात कहकर पुलिसकर्मियों को सप्ताहिक अवकाश नहीं दिया जा रहा है। जबकि पुलिस मुख्यालय वीकली आॅफ देने को लेकर पुलिस के आला अफसरों को पत्र भी लिख चुका है। ऐसे में वीकली आॅफ नहीं मिलने से पुलिसकर्मी अवकाश का आवेदन देकर छुट्टी पर जा रहे हैं। इसमें थाना प्रभारी से लेकर सिपाही तक शामिल हैं। हालांकि 23 मई को होने वाली मतगणना को देखते हुए थाना प्रभारियों के अवकाश निरस्त भी किए जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पुलिसकर्मियों के तनाव को दूर करने के लिए सप्ताहिक अवकाश देने की घोषणा की थी। विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस के घोषणा पत्र में भी सप्ताहिक अवकाश देने की बात कही गई थी। सरकार बनते ही सीएम ने डीजीपी को वीकली आॅफ देने के लिए फरमान जारी किया था। कुछ समय तक के लिए पुलिसकर्मियों को सप्ताहिक अवकाश मिले, उसके बाद विधानसभा ड्यूटी, चुनाव का हवाला देकर सप्ताहिक अवकाश कैंसिल कर दिए गए।

भोपाल पुलिस ने कांगे्रस की सरकार बनाते ही शुरूआत में पुलिसकर्मियों को वीकली आॅफ मिलने का सिलसिला शुरू हो गया था। बाद में किसी ना किसी बहाने उसे बंद कर दिया। उसके बाद से पुलिसकर्मियों को आॅफ मिलना ही बंद हो गया है। सबसे पहले प्रयोग के तौर पर अशोका गार्डन थाना पुलिस के कर्मचारियों को वीकली आॅफ मिला था। बाद में यह प्रयोग बीजेपी सरकार में फेल हो गया था।

Source : Agency