भोपाल

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भोपाल लोकसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह के पक्ष में धुनी रमाकर चुनाव प्रचार करने के मामले में कम्प्यूटर बाबा उर्फ स्वामी नामदेव त्यागी बड़ी मुश्किल में फंस गए हैं. भारतीय जनता पार्टी की शिकायत पर कम्प्यूटर बाबा के खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन का मामला दर्ज किया गया है. अब कम्प्यूटर बाबा से कार्यक्रम की इजाजत लेने से जुड़े सभी दस्तावेज मांगे जाएंगे.

आपको बता दें कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने सात मई को भोपाल के कोहेफिजा थाने में कम्प्यूटर बाबा के खिलाफ शिकायत की थी. बीजेपी ने आरोप लगाया था कि कम्प्यूटर बाबा ने भोपाल के सैफिया ग्राउंड में दिग्विजय सिंह के पक्ष में हवन पूजन कर चुनाव प्रचार किया था. भोपाल लोकसभा सीट पर दिग्विजय सिंह के खिलाफ भारतीय जनता पार्टी ने साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को चुनाव मैदान में उतारा है.

साध्वी प्रज्ञा के चुनाव लड़ने से इस सीट पर मुकाबला बेहद दिलचस्प हो गया है. वैसे तो इस लोकसभा सीट से कुल 30 प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे हैं, लेकिन मुख्य मुकाबला कांग्रेस के दिग्विजय सिंह और बीजेपी की साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के बीच ही माना जा रहा है. यहां पर 12 मई को छठवें चरण में वोटिंग हुई थी. अब 23 मई को वोटों की गिनती होगी और चुनाव के नतीजे जारी किए जाएंगे.

जहां तक कम्प्यूटर बाबा का सवाल है, तो वो मध्य प्रदेश से ताल्लुक रखते हैं. वो न सिर्फ हमेशा सुर्खियों में बने रहने की कला में पारंगत हैं, बल्कि सत्ता के साथ तालमेल बैठाने में भी माहिर हैं. इससे पहले शिवराज सिंह चौहान सरकार के समय कम्प्यूटर बाबा ने नर्मदा नदी में हो रहे खनन के मुद्दे को उठाया था और फिर उनको राज्यमंत्री का पद मिल गया था.

अब मध्य प्रदेश में सत्ता बदल चुकी है और कांग्रेस पार्टी की सरकार है. जब मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान की सरकार रही, तब वो बीजेपी के करीबी रहे और अब कमलनाथ की सरकार है, तो कांग्रेस के करीबी बन गए हैं.

Source : Agency