रायपुर
 डीकेएस घोटाला  के आरोपी और पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह  के दामाद डॉ. पुनीत गुप्ता  गुरुवार को बयान दर्ज कराने गोल बाजार थाना पहुंचे। डीकेएस के पूर्व अधीक्षक डॉ. पुनीत गुप्ता पुलिस के नोटिस पर बयान दर्ज कराने गोल बाजार थाना अपने वकील के साथ पहुंचे। पुलिस ने करीब डेढ घंटे तक डॉ. गुप्ता से पूछताछ की। इस बार भी डॉ. गुप्ता ने पुलिस के कई सवालों का जवाब नहीं दिए। उन्होंने रिकार्ड देख जवाब देने की बात कही।

हालांकि, जांच अधिकारियों ने पूछताछ के दौरान डॉ. पुनीत गुप्ता के हस्ताक्षर के नमूने लिए। पिछली बार डॉ. पुनीत गुप्ता 6 मई को अपना बयान दर्ज कराने गोल बाजार पहुंचे थे। पुनीत गुप्ता ने किसी भी सवाल का संतोषजनक जवाब नहीं दिया था। पुनीत ने यह भी कहा कि आरटीआई से दस्तावेज निकलवाया जा रहा है, उससे पूरी जानकारी आएगी, फिर जवाब दूंगा।

वहीं पुलिस ने डॉ. पुनीत गुप्ता के लुकआउट नोटिस को रद्द करने के मामले में कोई भी निर्णय नहीं लिया है। इससे पहले बुधवार को पुनीत गुप्ता ने लुकआउट नोटिस को रद्द करने के लिए गोल बाजार थाने में आवेदन दिया। डॉ. पुनीत गुप्ता के आवेदन को पुलिस अधिकारियों ने सिरे से खारिज कर दिया। अफसरों ने बताया कि लुकआउट नोटिस केस की जांच चलने तक खारिज नहीं किया जाएगा।

डीकेएस अस्पताल के अधीक्षक डॉ. कमल किशोर सहारे ने डॉ. पुनीत गुप्ता के खिलाफ अस्पताल नवीनीकरण में 50 करोड़ रुपए गबन का आरोप लगाते हुए 15 मार्च को उनके खिलाफ एफआईआर कराई थी। जांच शुरू हुई तो डॉ. पुनीत गुप्ता फरार हो गए। इसके बाद पुलिस से 2 नोटिस जारी होने पर भी डॉ. पुनीत जब सामने नहीं आए तो उनके खिलाफ 5 अप्रैल को लुकआउट नोटिस जारी कर दिया गया।

लुकआउट नोटिस जारी होने के बाद डॉ. पुनीत गुप्ता ने हाईकोर्ट से जमानत ली और पुलिस की ओर से 3 नोटिस जारी होने के बाद बयान दर्ज कराने 5 मई को गोल बाजार थाना पहुंचे।

Source : Agency