नई दिल्ली 

लोकसभा चुनाव के नतीजे आने से पहले ही राजनीतिक गलियारों में हलचल बढ़ चुकी है। तीसरे मोर्चे को मजबूत करने की कवायद में जुटे चंद्रबाबू नायडू को अब बीएसपी सुप्रीमो मायावती का भी साथ मिलता दिख रहा है। खबरों के मुताबिक, मायावती इसके लिए सोमवार को दिल्ली आ रही हैं। यहां मायावती कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और सोनिया गांधी दोनों से मीटिंग करेंगी। बता दें कि इससे पहले आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू राहुल गांधी के अलावा मायावती से भी मिले थे। 

मायावती की यह मीटिंग किस संदर्भ में है फिलहाल यह साफ नहीं है। लेकिन जिस तरह चंद्रबाबू नायडू पहले राहुल और फिर मायावती से मिले इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि उन्होंने तीसरे मोर्च में शामिल होने के लिए दोनों को मना लिया है। 

24 घंटें में राहुल गांधी से दो बार मिले नायडू 
आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू नतीजों से पूर्व ही खासे ऐक्टिव हैं। नतीजों के बाद गठबंधन की स्थिति को लेकर उन्होंने रविवार को भी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और एनसीपी के मुखिया शरद पवार से मुलाकात की। बीते 24 घंटों में दोनों दिग्गज नेताओं से उनकी यह दूसरी मुलाकात थी। चंद्रबाबू नायडू ने राहुल, शरद पवार के अलावा एसपी चीफ अखिलेश यादव और बीएसपी सुप्रीमो मायावती से मुलाकात की थी। 

पीएम पद कांग्रेस को तैयार नहीं हैं नायडू 
चंद्रबाबू नायडू ने जब तीसरे मोर्चे की बातें शुरू की थीं तब उन्होंने इसे गैर बीजेपी और गैर कांग्रेसी बनाने की बात कही थी। लेकिन बीतते वक्त के साथ नायडू कांग्रेस के प्रति थोड़े नरम पड़ गए। बाद में उनकी पार्टी टीडीपी की तरफ से कहा गया कि तीसरे मोर्चे में कांग्रेस चाहे तो आ सकती है लेकिन उसे पीएम पद नहीं दिया जाएगा और सरकार भी तीसरे मोर्चे की कही जाएगी। इसके बाद कांग्रेस की तरफ से पहले संकेत दिए गए कि वह बीजेपी को हराने के लिए तीसरे मोर्चे में शामिल हो सकती है और पीएम पद की शर्त भी नहीं रखेगी। लेकिन बाद में पार्टी की तरफ से कहा गया कि पीएम तो सबसे बड़ी पार्टी का ही होगा। 
 

Source : Agency