नई दिल्ली

एग्जिट पोल जारी हो चुके हैं और नतीजों में दो दिन का वक्त अभी बाकी है। ऐसे में अब नतीजों से पहले का वक्त राजीनीतिक समीकरणों और चर्चाओं में ही गुजरने वाला है। एक तरफ बीजेपी के नेतृत्व वाला एनडीए मीटिंग्स करने और रणनीति बनाने में व्यस्त है, जबकि विपक्षी दल देखो और इंतजार करो की रणनीति पर काम कर रहे हैं। 23 मई को नतीजे आने से पहले विपक्षी दल कोई भी दावा करने से बच रहे हैं। एग्जिट पोल में एनडीए की वापसी की बात कही गई है। 
कुछ पोल्स में एनडीए की सरकार का अनुमान है तो कई अन्य पोल्स में बीजेपी को ही पूर्ण बहुमत मिलने की बात कही गई है। एग्जिट पोल्स के औसत की बात करें तो एनडीए को 302 और यूपीए को 122 सीटें मिलने का अनुमान है। 543 सदस्यों वाली लोकसभा में बहुमत का आंकड़ा 272 है। 
पीएम नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को बीजेपी मुख्यालय में पार्टी के नेताओं की मीटिंग बुलाई है। इसके अलावा पार्टी चीफ अमित शाह ने शाम को एनडीए के अपने सहयोगियों के लिए डिनर का आयोजन किया है। इसमें पीएम नरेंद्र मोदी भी मौजूद रहेंगे। बीजेपी नेताओं का कहना है कि इस दौरान एनडीए गठबंधन की अपनी रणनीति को लेकर बात करेगा। 
हालांकि कांग्रेस और अन्य मुख्य विपक्षी दलों ने एग्जिट पोल में अपने खराब प्रदर्शन के आकलन को लेकर चुप्पी ओढ़ ली है और अगले किसी ऐक्शन के लिए नतीजों का इंतजार कर रहे हैं। हालांकि आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू इन सबसे अलग खासे ऐक्टिव हैं। उन्होंने सोमवार को भी पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से कोलकाता जाकर मुलाकात की। 
अखिलेश बोले, हाथी बना रहेगा साथी 
बीएसपी चीफ मायावती और एसपी मुखिया अखिलेश यादव ने सोमवार को एक बार फिर से लखनऊ में मुलाकात की। यादव ने ट्वीट किया कि एसपी-बीएसपी गठबंधन जारी रहेगा। इस बात की चर्चाएं भी चल रही थीं कि मायावती दिल्ली जाकर राहुल गांधी से मुलाकात कर सकती हैं, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। 
नायडू की इतनी सक्रियता का मतलब क्या? 
आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू को सूबे में जगन मोहन रेड्डी की पार्टी वाईएसआर कांग्रेस से कड़ी टक्कर मिल रही है। एग्जिट पोल्स में आंध्र में टीडीपी के मुकाबले वाईएसआर को ज्यादा सीटें दी गई हैं, जबकि विधानसभा चुनाव की बात करें तो स्थानीय चैनलों ने मिलीजुली राय दी है। नायडू ने सोमवार को एक बार फिर से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की। नायडू के लगातार दौरों की जानकारी रखने वाले एक सूत्र ने बताया कि वह 23 मई के बाद के संभावित नतीजों को लेकर रणनीति बनाने में जुटे हैं। 

डिनर में एनडीए नेताओं को साधेंगे मोदी-शाह 
बीजेपी नेताओं ने मंगलवार शाम को आयोजित डिनर को लेकर कहा कि इस दौरान अमित शाह और नरेंद्र मोदी अपने सहयोगी दलों शिवसेना, जेडीयू, अकाली दल, एआईएडीएमके और एलजेपी के नेताओं को चुनाव में साथ लड़ने के लिए धन्यावद देंगे। एग्जिट पोल्स से पहले ही नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने बीजेपी की बहुमत से सरकार बनने का भरोसा जताया था। 
गैर-एनडीए और गैर-यूपीए दलों की चुप्पी, बीजेडी ने बताया रुख 
इस बीच गैर-एनडीए और गैर-यूपीए दलों ने पूरी तरह से चुप्पी साध रखी है और नतीजें आने के बाद ही अपने पत्ते खोलने की तैयारी में हैं। वहीं, इन सबसे अलग ओडिशा की सत्ताधारी पार्टी बीजेडी का कहना है कि वह उस गठबंधन को सपॉर्ट करने को तैयार है, जो हमारे राज्य के साथ होगा। 
नागपुर में गडकरी से मिले संघ के भैयाजी जोशी 
इस बीच आरएसएस के सरकार्यवाह भैयाजी जोशी ने सोमवार को ही नागपुर में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से मुलाकात की। हालांकि बीजेपी नेताओं ने दोनों के बीच बंद दरवाजे में हुई मीटिंग को रूटीन मुलाकात बताया।

Source : Agency