भोपाल
लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजों से पहले एग्जिट पोल (Exit Poll) आ चुके हैं। एग्जिट पोल के मुताबिक बीजेपी को मध्य प्रदेश में फायदा हो रहा है। बीजेपी मध्यप्रदेश में 2014 का प्रदर्शन दोहराती नजर आ रही है। लेकिन इन सबके के बीच दो सीटें ऐसी है जहां मुकाबला टक्कर का है। मध्यप्रदेश की गुना-शिवपुरी संसदीय सीट सिंधिया परिवार का गढ़ है। इस सीट में आज तक सिंधिया परिवार का कोई भी सदस्य नहीं हारा है। लेकिन 2019 के जो एग्जिट पोल्स आ रहे हैं उनमें गुना-शिवपुरी सीट पर कांटे की टक्कर बताई जा रही है।

ज्योतिरादित्य हैं कांग्रेस उम्मीदवार
इस सीट से कांग्रेस के टिकट पर ज्योतिरादित्य सिंधिया चुनावी मैदान में हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया यहां 2002 से सांसद निर्वाचित होते आ रहे हैं। सिंधिया के मुकाबले में इस बार भाजपा ने यहां से केपी यादव को टिकट दिया है। एग्जिट पोल्स के अनुसार इस सीट पर इस बार कांटे का मुकाबला है। हालांकि कई राजनैतिक विशेषज्ञ यह कह रहे हैं कि सिंधिया की सीट पर टफ फाइट बताने पर एग्जिट पोल्स पर भरोसा नहीं किया जा सकता है। मध्यप्रदेश की गुना-शिवपुरी और छिंदवाड़ा सीट पर कांग्रेस को पीछे छोड़ना इतना आसन नहीं है। क्योंकि यहां सिंधिया और कमलनाथ के मुकाबले भाजपा के पास कोई बड़ा उम्मीदवार नहीं है।

क्या कहते हैं एग्जिट पोल्स
सातवें चरण की वोटिंग समाप्त होने के बाद देशभर में कई एजेंसियों के एग्जिट पोल्स जारी किए गए। इन एग्जिट पोल्स में बीजेपी को 2014 जैसी सफलता मिलना दिखाया जा रहा है। भाजपा के खाते में 25 सीटें जाने का अनुमान लगाया गया है। एग्जिट पोल्स के अनुसार 5 महीने पहले राज्य में सरकार बनाने वाली कांग्रेस को यहां कोई फायदा होता नहीं दिख रहा है। अगर वोट प्रतिशत की बात करें तो एग्जिट पोल्स के अनुसार, मध्य प्रदेश में बीजेपी को 57 प्रतिशत शेयर मिल सकता है, जबकि कांग्रेस का वोट शेयर 33 प्रतिशत रह सकता है। वहीं, अन्य दलों को 10 प्रतिशत वोट मिल सकता है। बता दें कि मध्यप्रदेश में मुख्य मुकाबला भाजपा और कांग्रेस के बीच है।


2014 में बड़े अंतर से जीते थे सिंधिया
2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को 27 और कांग्रेस को 2 सीटें मिलीं थी। वहीं, ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भाजपा के कद्दावर नेता जयभान सिंह पवैया को चुनाव हराया था। इस चुनाव में ज्योतिरादित्य सिंधिया को 5,17,036 वोट मिले थे जबकि उनके मुकाबले में मैदान में खड़े बीजेपी के उम्मीदवार जयभान सिंह पवैया को 396244 वोट मिले थे। सिंधिया को कुल वोट का 52.89 फीसदी जबकि पवैया को 44.53 फीसदी मिला।


दिग्गजों को हारा चुके हैं सिंधिया
गुना-शिवपुरी संसदीय सीट पर सिंधिया भाजपा के कद्दावर नेताओं को चुनाव हारा चुके हैं। भाजपा ने उप चुनाव -2002 में राव देशराज सिंह को चुनाव मैदान में उतारा, लेकिन सिंधिया जीते। 2004 में सिंधिया ने भाजपा के हरिवल्लभ शुक्ला, 2009 में नरोत्तम मिश्रा और 2014 में जयभानसिंह पवैया को हराया था। इस बार गुना सीट पर 69.89 फीसदी मतदान हुए और 13 उम्मीदवारों की किस्मत ईवीएम में कैद हो गई।

Source : Agency