नई दिल्ली 

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के इस्तीफे को लेकर सस्पेंस जारी है। सूत्रों का कहना है कि राहुल गांधी अगर अध्यक्ष पद से इस्तीफे का अपना फैसला नहीं बदलते हैं तो पार्टी को कुछ दूसरे वैकल्पिक तरीकों पर सोचना होगा। गांधी परिवार के अध्यक्ष नहीं रहने की हालत में फैसले लेने के लिए पार्टी एक अलग बॉडी बना सकती है। कांग्रेस में अंतरिम अध्यक्ष बनाने के विकल्प पर भी विचार किया जा रहा है। 
 
कांग्रेस अंतरिम अध्यक्ष बनाने पर हो रहा विचार 
पार्टी की वर्तमान स्थितियों को देखकर ऐसा लग रहा है कि कांग्रेस में एक वरिष्ठ नेता को अंतरिम अध्यक्ष बनाया जा सकता है। अंतरिम अध्यक्ष को फैसले लेने में सहयोग के लिए कलीजियम होगी जिसमें कुछ बड़े चेहरे शामिल होंगे। सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ए के एंटनी आज 
राहुल गांधी से मुलाकात कर सकते हैं। सूत्रों का कहना है कि लोकसभा चुनाव नतीजों में कांग्रेस को मिली 52 सीटों के साथ ही पार्टी की मौजूदा स्थिति पर चर्चा के लिए एंटनी कांग्रेस अध्यक्ष से मुलाकात करेंगे। 
 
राहुल के इस्तीफे पर अभी तक असमंजस की स्थिति 
एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने माना कि अब तक पार्टी स्तर पर कोई बड़ा फैसला नहीं लिया गया है। उन्होंने कहा, 'अभी तक इस संबंध में कोई प्रगति नहीं हुई है। राहुल गांधी को इस्तीफा नहीं देने के लिए मनाने की कोशिशों का अब तक कोई नतीजा नहीं निकला है। अगर राहुल गांधी अध्यक्ष बने रहने के लिए राजी हो जाते हैं तो किसी बड़े बदलाव की जरूरत नहीं होगी।' 

लोकसभा में कांग्रेस का नेतृत्व कर सकते हैं राहुल गांधी 
सूत्रों का कहना है कि लोकसभा में राहुल गांधी को कांग्रेस पार्टी का नेता बनने के लिए भी मनाया जा रहा है। हालांकि, माना जा रहा है कि अगले सप्ताह लोकसभा में कांग्रेस नेता कौन होगा इसका औपचारिक ऐलान हो जाएगा। कांग्रेस अध्यक्ष के पद से इस्तीफे पर अड़े होने के बाद अंतरिम प्रेजिडेंट और उसकी सहायता के लिए कलीजियम की चर्चा जोरों पर है। चुनाव नतीजों के बाद कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में राहुल गांधी ने इस्तीफे की पेशकश की थी। 

कई वरिष्ठ नेताओं को राहुल गांधी ने नहीं दिया मिलने का समय 
संसद सत्र 17 जून से शुरू हो रहा है और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता लोकसभा में कांग्रेस पार्टी का नेता राहुल गांधी को नियुक्त करना चाहते हैं। पिछली लोकसभा में इस पद पर मल्लिकार्जुन खड़गे थे, लेकिन खड़गे इस बार चुनाव हार गए हैं। ऐसी स्थिति में पार्टी को अपना नया नेता चुनना ही होगा। सूत्रों का कहना है कि पिछले 15 दिनों से कई वरिष्ठ नेता राहुल गांधी से मुलाकात के लिए इंतजार कर रहे हैं। हालांकि, कांग्रेस अध्यक्ष ने उनमें से किसी को भी समय नहीं दिया। 

Source : Agency