भोपाल 
कांग्रेस को मजबूत करने की आस में एक बार फिर से प्रदेश कांग्रेस दफ्तर का वास्तुदोष दूर किया गया है। हाल ही में यह काम बड़े ही गुपचुप रूप से किया गया। इससे पहले भी बिल्डिंग के वास्तुदोष को दूर करने की कवायत हुई थी। जिसके चलते कई कमरों में तोड़-फोड़ की गई थी। 

कांग्रेस के प्रदेश पदाधिकारियों को पता चला कि भवन की दक्षिण दिशा में एक गड्डा है। इस गड्डे के कारण कांग्रेस कमजोर होती रही है। इस गड्डेु वाली जगह से बिल्डिंग के बेसमेंट में जाने का रास्ता था। यह बात प्रदेश पदाधिकारियों ने पीसीसी चीफ कमलनाथ को बताई। उन्होंने इसे बंद करने के काम शुरू करवाया। लोकसभा चुनाव के आखिरी मतदान और मतगणना के बीच में इस गड्डे को आनन-फानन में भर दिया गया। अब यहां से बेसमेंट में जाने का रास्ता बंद कर दिया गया है। 

कांग्रेस भवन बनने के बाद बेसमेंट को गोडाउन के रुप में इस्तेमाल किया जा रहा था। इसे भी नाकारात्मक माना गया। नतीजे में अब बेसमेंट के एक हाल को खाली कर वहां पर आयोजन शुरू होने वाले हैं। यह हाल भवन के राजीव गांधी सभागृह के ठीक नीचे वाले हिस्से में है। 

इससे पहले भी वास्तुदोष दूर करने के लिए भवन के कई कमरों में तोड़फोड की गई थी। भवन में मुख्य द्वार की ओर हर कमरे में वॉशरूम थे, जिन्हें तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव ने हटवा दिए थे। वहीं हर फ्लोर के कॉमन वॉशरूप को भी ठीक करवाया गया था। 

बिल्डिंग की तीसरी मंजिल के कुछ कमरों की दीवारों पर पहले बहुत सीलन रहती थी। कमलनाथ ने पीसीसी चीफ की जिम्मेदारी लेने के बाद सबसे पहले इसे ही दूर करवाया। उन्होंने छत और कमरों की दीवारे ठीक करवाकर सीलन को दूर किया। सीलन को भी वास्तुदोष माना जा रहा था। 

Source : Agency