हस्तरेखा विज्ञान को सामुद्रिक शास्त्र भी कहा जाता है। इसमें हथेलियों की बनावट, उंगलियों के आकार-प्रकार के साथ ही हाथ की रेखाएं को देखकर भविष्य के बारे में काफी कुछ पता किया जा सकता है। हर व्यक्ति का हाथ व अंगुलियों की आकृति अलग होती है। ठीक उसी तरह उंगलियों का झुकाव भी हर किसी का अलग होता है। सामुद्रिक शास्त्र में उंगलियों के झुकाव को लेकर भी काफी कुछ बताया गया है। इनको देखकर आप सामने वाले व्यक्ति का व्यवहार अच्छी तरह जान सकते हैं। आज हम आपको बताते हैं कि उंगलियों के झुकाव के बारे में…

इस तरह करें हाथ

हस्तरेखा विज्ञान के अनुसार, सबसे पहले अपने हाथ को फैलाएं और देखें कि आपकी उंगलियां किस प्रकार हैं। सभी उंगलियां अलग-अलग हैं तो इसका मतलब है कि पर्वत संतुलित अवस्था में है। अगर एक-दूसरे की तरफ झुकी हुई हैं तो इसका मतलब है कि वह अपने गुण दुसरी उंगली को दे देती है। और सभी उंगली एक-दूसरे की तरफ झुकी हुई हैं तो इसका मतलब है कि ऐसे व्यक्ति के विचार बदलते रहते हैं। इनके इरादे पक्के नहीं होते हैं। वह थोड़े लचीले स्वभाव के होते हैं।


काफी सरल होते हैं ऐसे व्यक्ति

तर्जनी उंगली बृहस्पति की है। यदि तर्जनी उंगली यानी अंगूठे के पास वाली उंगली का झुकाव मध्यमा उंगली की तरफ है तो ऐसा व्यक्ति हर कार्य को बहुत उत्साह के साथ कार्य करता है। हालांकि इनमें गंभीरता बहुत कम होती है। अगर यह उंगली अंगूठे की तरफ झुकती है तो इनका व्यवहार काफी सरल होता है। यह अपने परिवार के साथ रहना ज्यादा पसंद करते हैं।


ईमानदार होते हैं ऐसा व्यक्ति

मध्यमा शनि की उंगली है। अगर मध्यमा यानी बीच वाली उंगली का झुकाव अनामिका यानी रिंग फिंगर वाली उंगली की तरफ है तो ऐसा व्यक्ति को शोर शराबा बिल्कुल पसंद नहीं आता है। इनके अवगुणों में वृद्धि होगी और उसमें प्रबल बदले की भावना होगी। अगर उंगली का झुकाव तर्जनी यानी अंगूठे के पास वाली उंगली की तरफ हो रहा हो तो ऐसा व्यक्ति के शुभ गुणों में हमेशा वृद्धि होती है। यह अपना जीवन ईमानदारी से व्यतीत करते हैं।


स्वार्थी होते हैं ऐसे व्यक्ति

अनामिका सूर्य की उंगली है। यदि अनामिका यानी रिंग फिंगर वाली उंगली झुकाव मध्यमा की तरफ है तो ऐसा व्यक्ति हर समस्या का आसानी से हल खोज लेता है। यह धार्मिक विषयों में ज्यादा रुचि रखते हैं। यदि उंगली का झुकाव कनिष्ठिका यानी छोटी वाली उंगली की ओर है तो ऐसा व्यक्ति स्वार्थी होता है। वह सदैव अपने बारे में सोचता है। यह हमेशा अपने फायदे के बारे में सोचते हैं, चाहें फिर वह किसी भी तरह हो।


बोलने में होते हैं माहिर

कनिष्ठिका बुध की उंगली है। यदि कनिष्ठिका यानी छोटी वाली उंगली सीधी है तो व्यक्ति विनोदी और अस्थिर होता है पर यदि इसका झुकाव अनामिका की तरफ हो तो अत्यधिक शुभ होता है। साथ ही ऐसा व्यक्ति बोलने में काफी माहिर होते हैं और दिमागी तौर पर बलवान होते हैं। हालांकि यह हमेशा अपना हित साधने में लगे रहते हैं।

Source : Agency