मुंबई         

महाराष्ट्र कैबिनेट विस्तार से जुड़ी एक अहम खबर सामने आ रही है. रिपोर्ट के मुताबिक बीजेपी ने शिवसेना को राज्य में उप मुख्यमंत्री का पोस्ट ऑफर किया था, लेकिन शिवसेना ने इस ऑफर को ठुकराते हुए कहा कि उन्हें दो मंत्री के पद चाहिए. आजतक को मिली जानकारी के मुताबिक उद्धव ठाकरे ने डिप्टी सीएम का पोस्ट ठुकराते हुए दो विधायकों को मंत्री बनाने की मांग की, शिवसेना की इस मांग को राज्य बीजेपी नेतृत्व और सीएम देवेंद्र फडणवीस ने स्वीकार कर लिया.

शिवसेना ने ठुकराया डिप्टी सीएम का पद

रिपोर्ट के मुताबिक पहले शिवसेना राज्य के उद्योग मंत्री सुभाष देसाई को डिप्टी सीएम बनाना चाहती थी, लेकिन शिवसेना के अंदर ही कुछ मंत्रियों ने इस बात का विरोध किया. पार्टी में संभावित विरोध को भांपते हुए उद्धव ठाकर ने सुभाष देसाई को डिप्टी सीएम बनाने का बीजेपी का ऑफर ठुकरा दिया. रविवार को हुए कैबिनेट विस्तार में उद्धव ठाकरे खुद मौजूद भी नहीं रहे. उद्धव रविवार को उत्तर प्रदेश के अयोध्या दौरे पर थे.

चुनाव से 3 महीना पहले कैबिनेट विस्तार

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से मात्र 3 महीने पहले सीएम देवेंद्र फडणवीस ने कैबिनेट में बड़ा फेरबदल किया है. सीएम ने 13 नये मंत्रियों को अपने कैबिनेट में शामिल किया है जबकि 6 मंत्रियों की कैबिनेट से छुट्टी हो गई है. जिन 13 विधायकों को मंत्री बनाया गया है उनमें भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के 10, शिवसेना के दो और रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया-ए (आरपीआई-ए) का एक विधायक शामिल हैं. इनमें से 8 मंत्री कैबिनेट स्तर के हैं, जबकि 5 राज्य मंत्री हैं.

कांग्रेस में रहे पाटिल बने कैबिनेट मंत्री

फडणवीस ने कांग्रेस छोड़ बीजेपी में आए राधाकृष्ण विखे पाटिल को कैबिनेट मंत्री बनाया है. पाटिल कुछ ही दिन पहले तक विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष थे. बाद में वे बीजेपी में शामिल हो गए थे. महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष आशीष शेलार भी मंत्री बने हैं. इनके अलावा शपथ लेने वाले अन्य कैबिनेट मंत्रियों में संजय कुटे, सुरेश खड़े, अनिल बोंदे और अशोक उइके तथा तानाजी सावंत मंत्री बने हैं. शिवसेना से जयदत्त क्षीरसागर को भी मंत्री बनाया गया है. राज्यमंत्री बनने वाले बीजेपी विधायकों में योगेश सागर, संजय भेगड़े, परिणय फुके शामिल हैं, शिवसेना विधायक अतुल सवे और आरपीआई-ए एमएलए अविनाश महाताकीर भी मंत्री बने हैं.

कैबिनेट से इनकी हुई छुट्टी

कैबिनेट ने जिन मंत्रियों की छुट्टी हुई है उनमें प्रकाश मेहता, विष्णु सवरा, अंबरीश अतराम, दिलीप कांबले, प्रवीण पोटे और राजकुमार बडोलो शामिल हैं. इन सभी विधायकों ने अपने-अपने इस्तीफा दे दिए, जिन्हें फड़णवीस ने स्वीकार कर लिया. फडणवीस ने कहा है कि किसी भी मंत्रियों को नॉन परफॉर्मेंस या फिर भ्रष्टाचार के आरोपों की वजह से नहीं हटाया गया है. बता दें कि महाराष्ट्र में इस साल के अंत तक विधानसभा के चुनाव होने हैं.

Source : Agency