किस्‍मत साथ‍ न दे रही हो या तमाम प्रयासों के बावजूद भी परेशानियां खत्‍म ही न हो रहीं हों। या फिर सुख-समृद्धि पाने की चाहत हो। अक्‍सर ही लोग इन सारी बातों का समाधान ज्‍योतिषशास्‍त्र या फिर वास्‍तुशास्‍त्र में तलाशते हैं। कभी कोई पूजा करते हैं तो कभी रत्‍न पहनते हैं या फिर अंगूठियां धारण करते हैं। आजकल 6 अंगूठियां काफी प्रचलित हैं, लोग मानते हैं कि इनसे किस्मत चमक जाती है।

किस्‍मत चमकाने के लिए कछुए वाली अंगूठी पर भी लोगों का गहरा विश्‍वास है। वास्‍तु के मुताबिक यह अंगूठी व्‍यक्ति के जीवन में कई दोषों को शांत करती है। इसके अलावा इसे पहनने से आत्‍मविश्‍वास में भी वृद्धि होती है। धन-संपदा भी बढ़ती है।

 ज्योतिषशास्त्र के अनुसार सर्प के आकार की अंगूठी पहनने से जातक के जीवन से कालसर्प दोष, पितृ दोष और ग्रहण दोष दूर होता है। ऐसी धारणा हैं कि सर्प मुद्रिका धारण करने से आरोग्य सुख के साथ ही साथ बुरी नजर से बचाव होता है और धन समृद्धि में भी वृद्धि होती है।

ज्‍योतिषशास्‍त्र के मुताबिक तांबे की अंगूठी पहनने से सूर्य दोष दूर होता है। यह अंगूठी व्‍यक्ति को समाज में पद-प्रतिष्‍ठा और सम्‍मान दिलाती है। इसके अलावा तांबे में औषधीय गुण तो होते ही हैं। इसके चलते स्वास्थ्य के लिए इसे गुणकारी माना जाता है। तांबा धारण करने से उर्जा और बल, बुद्धि में वृद्धि होती है।

नवग्रह अंगूठी पहनने से व्‍यक्ति को अच्‍छी सेहत, सुख, समृद्धि और मानसिक शांति मिलती है। इसे धारण करने से मन से नकारात्‍मक प्रभाव दूर होते हैं। यह ऐसी अंगूठी होती है जिसे बिना किसी ज्‍योतिषी की सलाह के भी पहना जा सकता है।

काले घोड़े की नाल से बनी अंगूठी पहनने से शनि दोष दूर हो जाते हैं। ज्‍योतिषशास्‍त्र के मुताबिक अगर किसी व्‍यक्ति पर शनि की साढ़ेसाती या फिर शनि की ढैय्या चल रही हो तो इस अंगूठी को धारण करने से उसकी परेशानियां दूर हो जाती हैं।

ज्‍योतिषशास्‍त्र के मुताबिक हाथी वाली अंगूठी पहनने से व्‍यक्ति को आर्थिक संकटो से मुक्ति मिलती है। इसके अलावा वह धन-धान्‍य से परिपूर्ण होता है। यही वजह है कि लोग कर्ज से मुक्ति पाने की इच्‍छा रखते हों या फिर कुबेर की कृपा पाने की वह हाथी की आकृति वाली अंगूठी धारण करते हैं।

Source : Agency