नई दिल्ली
सोना लंबे समय बाद फिर से चमका है। अमेरिका-ईरान के बीच बढ़ते तनाव, विभिन्न देशों के साथ अमेरिका की तरफ से जारी व्यापार युद्ध और केंद्रीय बैंकों के नरम रुख ने सोने का आकर्षण बढ़ा दिया है। दिल्ली में मंगलवार को सोने का भाव 200 रुपये से ज्यादा चढ़ा और यह 34,470 रुपये प्रति 10 ग्राम की रेकॉर्ड ऊंचाई को छू लिया। वहीं, मुंबई के फ्यूचर मार्केट में भी सोना महंगा हुआ और ट्रेडिंग खत्म होने तक यह 34,588 रुपये प्रति 10 ग्राम पर जा पहुंचा।

आगे भी कीमतें बढ़ने के आसार

कमोडिटी एक्सचेंज एमसीएक्स पर सोने का रुख 34,700 रुपये प्रति 10 ग्राम की तरफ रहा जिससे आगे इसमें और बढ़त की संभावना दिख रही है। कमोडिटी मार्केट्स पर नजर रखने वालों का अनुमान है कि सोने की कीमतें कुछ दिनों के लिए चढ़ने वाली हैं। वैश्विक बाजार में भी इस बहुमूल्य धातु की कीमत मंगलवार को 1,439.7 डॉलर प्रति औंस तक पहुंच गया था। यह सितंबर 2013 के बाद सोने का सर्वोच्च स्तर है।

ये हैं कारण
मोतीलाल ओसवाल फाइनैंशल सर्विसेज में कमोडिटी हेड किशोर नार्ने के मुताबिक, गोल्ड की कीमतें बढ़ने के आसार आगे भी बनेंगे क्योंकि प्रमुख देशों के केंद्रीय बैंक नीतिगत ब्याज दरों में कटौती का पक्ष ले रहे हैं ताकि कुछ देशों की अर्थव्यवस्था में मंदी के संकेतों से मुकाबला किया जा सके।

उधर, रिलायंस कमोडिटीज के कमोडिटीज हेड प्रीतम कुमार पटनायक कहते हैं कि अमेरिका, चीन, यूरोप के कुछ देश, इंग्लैंड और भारत जैसी कुछ बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में नीतिगत ब्याज दरों में लगातार कटौती हो रही है। ऐसे में बड़े निवेशक निवेश के लिए सोने का रुख कर रहे हैं।

नार्ने ने कहा कि सोने का भाव चढ़ने के अन्य कारण दुनियाभर में भू-राजनैतिक तनावों (जियो-पॉलिटिकल टेंशन) में वृद्धि और अमेरिका-चीन के बीच जारी व्यापार युद्ध भी हैं जिन्होंने कुछ बड़े देशों को अपने रिजर्व अमेरिकी डॉलर की जगह सोने के रूप में रखने को प्रेरित किया है।

 

Source : Agency