नई दिल्ली
पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह को कांग्रेस किसी भी सूरत में सक्रिय राजनीति में बनाए रखना चाहती है। इसी वजह से मनमोहन सिंह के लिए एक अदद राज्यसभा सीट की तलाश हो रही है। हालांकि कांग्रेस को एक सीट की तलाश में कई बाधाएं हैं। सूत्रों के अनुसार कांग्रेस ने सबसे पहले मनमोहन सिंह को गुजरात से राज्यसभा भेजने की कवायद की थी। लेकिन चुनाव आयोग की ओर से दो सीटों पर अलग-अलग चुनाव कराने से पार्टी की ऐसी मंशा पूरी नहीं हो सकी।
वहां से मंगलवार को बीजेपी की ओर से विदेश मंत्री एस जयशंकर और जुगलजी माथुरजी ठाकोर ने नामांकन किया। उसके बाद कांग्रेस ने तमिलनाडु की खाली होने वाली 6 राज्यसभा सीटों में एक सीट डीएमके के मदद से लेकर मनमोहन सिंह को राज्यसभा भेजने की पहल की लेकिन डीएमके के लिए खुद अपने उम्मीदवारों को भेजना प्राथमिकता रही।

राज्य की 6 सीटों पर चुनाव के लिए मंगलवार को चुनाव आयोग ने अधिसूचना भी जारी कर दी और वहां 18 जुलाई को चुनाव होंगे। डीएमके के डी राजा और कनिमोई की सीट खाली हुई है। कनिमोई लोकसभा में निर्वाचित हुई हैं लेकिन वहां भी सकारात्मक संकेत न मिलने के बाद कांग्रेस के लिए सारे रास्ते बंद हो गए थे। अब चूंकि मदन लाल सैनी के निधन के बाद बने हालात में मनमोहन सिंह को राजस्थान की एक सीट से मौका मिल सकता है। सोमवार को ही उनका निधन हुआ है। उनका मनोनयन पिछले साल हुआ था।

Source : Agency