भोपाल
बरकतउल्ला विश्वविद्यालय में चार दिन से चले रहे कर्मचारियों के एरियर्स कर विवाद मंगलवार को थमा। अभी कर्मचारियों को एरियर्स मिलने के आदेश जारी नहीं हुए, लेकिन डीआर-एआर स्थापना विभाग से छुट्टी जरुर हो गई है। मामले को लेकर कर्मचारी संघ के नेता बुधवार सीएम हाउस पहुंचे। यहां उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बीयू की प्रशासन शाखा में पदस्थ डिप्टी रजिस्ट्रार सरिता चैहान की शिकायत की। जहां उन्हें उचित कार्रवाई का आश्वासन मिला। कर्मचारी स्थापना विभाग से डीआर सरिता चैहान और एआर भावना पाटने को हटाने की मांग पर अड़ गए। इसके बाद दोनो को स्थापना से हटाकर डीआर चौहान को विकास शाखा एवं एससी-एसटी प्रकोष्ठ और भावना पाटने को भण्डार शाखा का कार्यभार दिया है। नई पदस्थापना हो जाने तक कुलपति के निज सचिव मनोज भटनागर को वर्तमान दायित्व के साथ-साथ स्थापना शाखा का प्रभार भी दिया गया है।

सरिता चौहान द्वारा की गई शिकायत की जांच की बात कही गई है। इसके लिए कमेटी भी बनाई गई है।  डीआर ने थाने फोन कर कहा- मुझे बंधक बना लिया है। कर्मचारी द्वारा किये जा रहे प्रदर्शन के बीच डिप्टी सरिता चौहान ने बागसेवनिया थाने फोन कर शिकायत कर दी। फोन पर उन्होंने पुलिस को बताया कि कर्मचारी नेताओं ने उन्हें विवि में बंधक बना लिया है। उन्हें कर्मचारियों से खतरा है। एक महिला अधिकारी के फोन जाने पर तत्काल थाने से दो पुलिस कर्मियों को विवि भेजा। यहां उन्होंने डीआर सहित अन्य से बातचीत की, लेकिन बंधक जैसी कोई भी स्थिति नहीं मिलने से वह वापस लौट गई। कर्मचारियों ने कुलपति राव के सामने शर्ट उतारकर नारेबाजी शुरू कर दी। कुछ देर बाद चेंबर से बाहर निकलकर धरने पर बैठ गए। इसके बाद प्रभारी रजिस्ट्रार यशवंत पटेल ने प्रशासन शाखा के डीआर चौहान और एआर पाटने के स्थानांतरण आदेश जारी कर दिए।

रजिस्ट्रार से की शिकायत
सरिता चैहान ने भी रजिस्ट्रार से कर्मचारियों की शिकायत की है। पत्र में उन्होंने लिखा है कि कर्मचारियों ने उनके साथ अभद्रता की और दबाव पूर्वक कार्य कराने की कोशिश की। उन्होंने पत्र में लिखा है कि बीयू में लगभग 156 पद स्वीकृत न होने पर भी उन पर पदस्थ कर्मचारियों को नियम विरुद्ध तरीके से नियमित कर्मचारियों के समस्त लाभ प्राप्त कर रहे हैं। जबकि इनको इसकी पात्रता नहीं है। विवि इस मामले की ही जांच कराएगा, जिसके लिए कमेटी गठित की गई है।  

डीआर ने थाने फोन कर झूठे आरोप लगाए, डीआर को बंधक बनाने जैसी कोई बात नहीं। विवि प्रशासन चाहे तो सीसीटीवी फुटेज देख सकता है। उनके इसी अड़ीयल रवैये के कारण ही कर्मचारी उनके खिलाफ हुए हैं।  
सुधीर ठाकरे, अध्यक्ष, बीयू कर्मचारी संघ  

शाखा से हटाया पर हमारे साथ किया पक्षपात  डीआर-एआर को शाखा से हटाया इसके लिए विवि प्रशासन का धन्यवाद पर हमारे साथ पक्षपात हुआ है। पहले हमने डीआर की शिकायत की थी, लेकिन आदेश में स्पष्ट लिखा है कि डीआर द्वारा की गई शिकायत की जांच होगी, याने हमारी नहीं।
शाहिद खान, उपाध्यक्ष कर्मचारी संघ

Source : Agency