धार
धार पुलिस ने एक शातिर ठग गिरोह का पर्दाफाश किया है. यह गिरोह मृत व्यक्तियों के नाम पर बीमा कंपनियों से करोड़ों की ठगी कर चुका है. शिकायत के बाद पुलिस ने इस गिरोह का पर्दाफाश किया है और गिरोह के 10 सदस्यों को गिरफ्तार किया है. जिनमें डॉक्टर और वकील जैसे रसूखदार लोग भी शामिल हैं. दरअसल, गिरोह के शातिर सदस्य गंभीर बीमारियों से ग्रस्त लोगों का ऑनलाइन बीमा करवाकर उनकी सड़क हादसें मे मौत होना दर्शाते थे और बीमा कंपनियों को सड़क हादसे में उनकी मौत होना बताकर कंपनियों से मोटी राशि वसूलने का काम करते थे.

इसमें डॉक्टर, वकील, पुलिस जैसे रसूखदार लोग भी शामिल थे. यह गिरोह ग्रामीण क्षेत्र में कैंसर, टीबी, किडनी से पीड़ित मरीजों को चिन्हित करके उनका बड़ा बीमा करवाकर उनकी स्वभाविक मौत होने के बाद झूठे एक्सीडेंट की घटना बताकर पुलिस से मिलकर उसकी फर्जी एफआईआर लिखवाते थे और इसके बाद वे डॉक्टरों से फर्जी पोस्टमार्टम करवाकर मृत व्यक्ति के नाम से बीमा क्लेम प्राप्त करते थे. यह धंधा लंबे समय से चल रहा था.

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि अभी तक यह गिरोह कई बीमार व्यक्तियों की मौत को एक्सीडेंटल बताकर बीमा कंपनियों को करोड़ों का चूना लगा चुका है. यह गिरोह धार, झाबुआ, अलीराजपुर, बडवानी, में सक्रिय था. वही पुलिस ने दस आरोपियो नितिन अगल्चा, महेश सिर्वी, लक्ष्मण सिर्वी, प्रकाश सिर्वी, मनोज सिर्वी, डॉ. नितिन वाघेला , मुन्ना भील, संतोष सिर्वी , भगवान सिर्वी और जीवन सिर्वी को गिरफ्तार कर लिया है. गिरफ्तार किए गए आरोपियो में से नितिन वाघेला डॉक्टर है जो कि ग्राम बाग के शासकीय अस्पताल में पदस्थ था. वही नितिन अगल्चा वकील है. पुलिस अब पकडे गये सभी आरोपियो से सख्ती से पूछताछ कर रही है.

Source : Agency