भिंड
मध्यप्रदेश के भिंड जिले से एक अजब-गजब मामला सामने आया है, एक युवक उस समय अचंभित हो गया जब उसे एक पैथलॉजी लैब की जांच रिपोर्ट में प्रेगनेंट यानि गर्भवती बता दिया गया। युवक ने सोशल मीडिया जांच रिपोर्ट को वायरल कर दिया। यह मामला स्वास्थकर्मियों की स्वास्थ्य सेवाओं के प्रति गंभीरता दिखाता है।

मामला भिंड की फूप तहसील का है, जहां मलेरिया और टायफाइड की जांच कराने गए एक युवक सुरेश कुमार (45) को श्याम पैथलॉजी लैब ने जांच रिपोर्ट में उसे गर्भवती बता दिया। मामले की जानकारी जब विभाग के आला अधिकारियों को लगी तो अमले को भेजकर फूफ में पैथालॉजी को सील करवा दिया गया।फिलहाल लैब संचालक पर सख्त कार्रवाई की बात की जा रही है।
 
बता दें कि पीड़ित सुरेश को बुखार आ रहा था इसलिये उसे फूप के ही एक झोलाछाप डॉक्टर वीके वर्मा ने जांच करवाने के लिए अटेर रोड तिराहा पर श्याम पैथालॉजी लैब पर मलेरिया और टाइफाइड की जांच कराने के लिए भेजा था। इतना ही नहीं जब इस कृत्य के बारे में पीड़ित ने झोलाछाप डॉक्टर को बताया तो उसने पैथलॉजी लैब संचालक को बचाने के लिए कह दिया कि यह गलती से उन्होंने ही लिख दिया था। लेकिन जैसे ही मामले ने तूल पकड़ा तो झोलाछाप डॉक्टर वीके वर्मा क्लीनिक बंद कर फरार हो गया।

जिले के वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारियों को जब इस बारे में जानकारी मिली तो दोपहर के बाद फूफ में टीम भेजकर उक्त पैथालॉजी लैब को सील करवा दिया गया और अब पैथालॉजी संचालक के खिलाफ शख्त कार्रवाई की बात की जा रही है। लैब संचालक द्वारा पुरे मामले में डॉक्टर की गलती बताई जा रही है।

Source : Agency