काम के दौरान लंबे समय तक बैठना दिल के लिए उतना बुरा नहीं हो सकता है जितना कि टीवी देखते समय बैठना। अमेरिका के कोलंबिया विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं के अध्ययन में पाया गया कि टीवी देखने के दौरान आराम से बैठने पर हृदय रोग होने की आशंकाएं बढ़ जाती हैं। हालांकि कुछ सरल और कठोर व्यायाम से लगातार बैठकर टीवी देखने के हानिकारक प्रभावों को कम किया जा सकता है। शोध में पाया गया है कि हर दिन चार घंटे या इससे अधिक समय तक बैठकर टीवी देखने वालों में हृदय संबंधी बीमारियां ज्यादा पाई गईं। अगर दिल को स्वस्थ रखना है, तो हफ्ते में कम से कम 150 मिनट व्यायाम करना जरूरी है।


एक्सर्साइज करने से हार्ट डिजीज का खतरा 45% कम
अमेरिकन हार्ट इंस्टिट्यूट के अनुसार हर व्यक्ति को हर दिन कम से कम 30 मिनट व्यायाम करना चाहिए। नियमित व्यायाम करने वालों में हृदय रोग की आशंका दूसरों की तुलना में लगभग 45% तक कम हो जाती है। कलेस्ट्रॉल और लिपिड के स्तर में भी सुधार होता है। बैड कलेस्ट्रॉल यानी एलडील का स्तर कम होता है। हालांकि गुड कलेस्ट्रॉल के स्तर में सुधार के लिए अधिक मेहनत वाला व्यायाम करना जरूरी है।

कार्डियो
कार्डियो में दौड़ना, जॉगिंग करना, तैरना जैसे व्‍यायाम आते हैं। यह व्‍यायाम करते वक्‍त आप इनकी गति बढ़ाकर दिल की धड़कन को बढ़ा सकते हैं। इससे रक्‍त का संचार अच्‍छे से होगा और दिल मजबूत होगा।

स्‍ट्रेचिंग
सप्‍ताह में केवल दो दिन स्‍ट्रेचिंग करना दिल को मजबूत बनाने के लिए पर्याप्‍त है। स्‍ट्रेचिंग के वक्‍त सावधानी बरतें ताकि आपकी मांसपेशियों को समस्‍या न हो।

स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग
स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग यानी अधिक मेहनत वाला व्‍यायाम है। इससे दिल की मांसपेशियां मजबूत होती हैं। सांसों की गति और धड़कन बढ़ जाती हैं, जिससे शरीर में रक्‍त का संचार अच्‍छे से होता है।

साइक्लिंग
अगर रोज 30-40 मिनट तक साइकल चलाई जाए तो दिल की बीमारियां नहीं होंगी, दिल मजबूत रहेगा। साइकल चलाने से सांसों की गति बढ़ती है जो दिल के लिए फायदेमंद है।

Source : Agency