UPI (Unified Payment Interface) के आने के बाद से लाखों नए यूजर्स डिजिटल पेमेंट का इस्तेमाल करने लगे हैं। यूपीआई पेमेंट यूजर्स को सहूलियत के साथ ही सुरक्षित तरीके से पेमेंट का ऑप्शन उपलब्ध करा रहा है। कई पेमेंट ऐप्स भी यूपीआई के जरिए यूजर्स को पेमेंट सर्विस उपलब्ध करा रहे हैं। यूपीआई बेस्ड पेमेंट ऐप का सुरक्षित इस्तेमाल करने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी हो जाता है। आइए जानते हैं इन्हीं जरूरी बातों को।

पासवर्ड ना करें शेयर
इन ऐप्स के सुरक्षित इस्तेमाल के लिए सबसे जरूरी है कि अपने पासवर्ड को किसी के साथ शेयर ना किया जाए। कभी भी अपने पासवर्ड को किसी पेपर पर लिखकर इधर-उधर ना छोड़ें। अगर आपको लगता है कि आपने कहीं पासवर्ड लिखकर छोड़ दिया है तो तुरंत ऐप में जाकर अपने बैंकिंग पासवर्ड को बदल दें।

PIN को रखें सीक्रेट
अपनी आइडेंटिटी को कन्फर्म करने के लिए हम पिन का इस्तेमाल करते हैं। फोन लॉक करने के लिए भी ज्यादातर यूजर इसी का इस्तेमाल करते हैं। गूगल पे जैसे पेमेंट ऐप भी यूजर की आइडेंटिटी को कन्फर्म करने के लिए पिन का इस्तेमाल करते हैं। इसीलिए यह बेहद जरूरी है कि किसी के साथ भी अपना पिन ना शेयर किया जाए।

ट्रांजैक्शन का रखें ध्यान
डिजिटल पेमेंट स्मार्टफोन पर कुछ टैप के साथ पूरा हो जाता है। आसान तरीके से होने वाले इन पेमेंट को ट्रैक करना कभी-कभी मुश्किल हो जाता है। इसलिए यूपीआई मर्चेंट्स को ग्राहकों को कलेक्ट रिक्वेस्ट देने के लिए कहता है जिससे कि वे पेमेंट का रिकॉर्ड रख सकें।

सही कस्टमर केयर नंबर
कभी ऐसी स्थिति भी पैदा हो सकती है कि ऐप में आई किसी दिक्कत के कारण पेमेंट ना हो पाई हो। ऐसे में कस्टमर केयर से बात करना जरूरी हो जाता है। ऐसे में उसी कस्टमर केयर नंबर पर फोन किया जाना चाहिए जिसे ऐप या कंपनी की वेबसाइट पर उपलब्ध कराया गया है। इंटरनेट पर कई फर्जी नंबर भी होते हैं जिनसे सावधान रहने की जरूरत है।

Source : Agency