बर्मिंघम
आस्ट्रेलिया को ‘बुरी तरह’ से हराकर इंग्लैंड के आईसीसी विश्व कप फाइनल में पहुंचने पर क्रिकेट टीम के पूर्व निदेशक एंड्रयू स्ट्रास भावुक है। स्ट्रास ने इस टीम के गठन में अहम भूमिका निभाई है जिसने गुरुवार को एजबेस्टन मैदान में पूर्व चैम्पियन आॅस्ट्रेलिया को आठ विकेट से करारी शिकस्त देकर 27 साल बाद विश्व कप के फाइनल का टिकट कटाया। इयोन मोर्गन के नेतृत्व वाली यह टीम पहली बार खिताब जीतने के इरादे से फाइनल में न्यूजीलैंड से भिड़ेगी। पूर्व कप्तान स्ट्रास के लिए टीम का फाइनल में पहुंचना बड़ा पल था। चार साल पहले विश्व कप से बुरी तरह से बाहर होने के इंग्लैंड एवं वेल्स व्रिच्च्केट बोर्ड ने क्रिकेट निदेशक के पद का गठन कर स्ट्रास को टीम की जिम्मेदारी सौंपी थी।

ट्रेवर बेलिस को मुख्य कोच नियुक्त करने के फैसले के पीछे स्ट्रास का हाथ था। उन्होंने बोर्ड से सफेंद गेंद की क्रिकेट (एकदिवसीय) पर ज्यादा जोर देने को कहा जिससे टीम एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय रैंकिंग में पहले पायदान पर पहुंची। वह हालांकि पत्नी की गंभीर बीमारी (फेफड़ों का कैंसर) के कारण परिवार के साथ समय बिताने के लिए 2018 में पद से हट गये थे। स्ट्रास ने कहा कि विश्व कप में यह इंग्लैंड का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। उन्होंने कहा कि इंग्लैंड ने गेंद और बल्ले से आॅस्ट्रेलिया को बुरी तरह से रौंदा। जिस तरह क्रिस वेक्स और जोफ्रा आर्चर ने गेंदबाजी की वह शानदार रहा। बल्लेबाजी में जैसन राय शानदार रहे। अभी एशेज के बारे में बात करने का समय नहीं लेकिन जिस तरह से उन्होंने मिशेल स्टार्क के खिलाफ बल्लेबाजी की वह कमाल का था। उन्होंने कहा कि मैं अभी काफी भावुक हो रहा हूं। मैं इंग्लैंड की टीम से सिर्फ यह कहना चाहूंगा कि रविवार को इसी तरह खेले। इसबीच आस्ट्रेलिया के दिग्गज खिलाड़ी शेन वार्न ने कहा कि मेजबान टीम खिताब की दावेदार है। उन्होंने कहा कि आस्ट्रेलिया के दृष्टिकोण से निराशाजनक, लेकिन इंग्लैंड उन पर पूरी तरह हावी रहा। महान लेग स्पिनर ने कहा कि इंग्लैंड ने अपने खेल का स्तर दिखाया, इयोन मोर्गन की यह टीम विश्व स्तरीय है। उन्होंने शानदार तरीके से गेंदबाजी में बदलाव किये। टीम सही समय पर लय हासिल कर रही और आपको विश्व कप जीतने के लिए ऐसा ही करना होता है।

Source : Agency