नई दिल्ली

मौजूदा दौर में डेटा प्रिवेसी और सिक्यॉरिटी एक बड़ा मुद्दा है। इसका महत्व तब और बढ़ जाता है जब दुनियाभर में साइबर अटैक के कई मामले सामने आते रहते हैं। साइबर सिक्यॉरिटी फर्म ट्रस्टवेव स्पाइडरलैब्स ने फिशिंग कैंपेन का पता लगाया है। इसमें विंडो यूजर्स को ईमेल के जरिए एक रैंसमवेयर इंफेक्टेड (वायरस वाली) फाइल भेजी जाती है। यह फाइल माइक्रोसॉफ्ट विडोंज 10 के अपडेट के तौर पर भेजी जाती है।
गलती से भी न ओपन करें फाइल
TechRadar की रिपोर्ट के मुताबिक इस फाइल को यूजर्स को ओपन नहीं करना चाहिए। यह फाइल साइबॉर्ग (Cyborg) रैंसमवेयर से इंफेक्टेड होती है लिहाजा यूजर्स को इसे ओपन करने से बचना चाहिए।
ऐसे करें पहचान
अगर आपके पास कोई ईमेल आता है जिसमें 'Install Latest Microsoft Windows Update now!' या फिर 'Critical Microsoft Windows Update!' लिखा हो तो ऐसी किसी भी फाइल पर क्लिक न करें।
कैसे करें बचाव
अगर आपने गलती से लिंक पर क्लिक कर दिया है तो भी अपने कंप्यूटर को इंफेक्टेड होने से आप बचा सकते हैं। लिंक पर क्लिक करने के बाद जो पेज खुलेगा उसमें लिखा होगा, 'प्लीज इंस्टॉल द लेटेस्ट क्रिटकल अपडेट फ्रॉम माइक्रोसॉफ्ट अटैच्ड टु दिस ईमेल।' इस फाइल को इंस्टॉल न करें। यह फाइल JPG फाइल एक्सटेंशन के साथ हो सकती है लेकिन इसमें फोटो न होकर .NET फाइल होती है जो आपकी डिवाइस पर मैलवेयर इंस्टॉल कर सकता है।

वॉट्सऐप भी हो चुका है शिकार
हाल ही में भारत वॉट्सऐप भी हैकिंग का शिकार हो चुका है। इंडियन कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पॉन्स टीम (CERT-In) सभी यूजर्स से फौरन मेसेजिंग ऐप अपडेट करने को कह रही है। टीम ने सभी यूजर्स से अपना वॉट्सऐप लेटेस्ट वर्जन पर अपडेट करने को कहा है और इसकी वजह सामने आई एक गड़बड़ी है। सामने आई खामी की मदद से यूजर्स को मैलिशस विडियो फाइल भेजकर हैकिंग का शिकार बनाया जा सकता है और वॉट्सऐप पर उनकी जासूसी की जा सकती है।

Source : Agency