लेह
चीन से तनाव के हालात के बीच भारतीय सेना के जवानों को ठंड के मौसम में खाने की चीजों की कमी ना हो, उसके लिए खास तौर पर तैयारियां की जा रही हैं। चीन से लगने वाली वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तैनात जवानों को खाने के लिए लेह में फ्रेश सब्जियां मिल सकें, इसके लिए डिफेंस इंस्टीट्यूट ऑफ हाई ऐल्टीट्यूड रिसर्च ने एक बड़ा प्रयोग शुरू किया है। लेह के जिस इलाके में ठंड का तापमान -25 डिग्री तक पहुंच जाता है, उस इलाके में ये रिसर्च इंस्टीट्यूट जवानों के लिए हरी सब्जियों को उगाने का इंतजाम कर रहा है।

माइक्रोग्रीन टेक्नॉलजी के जरिए लेह के इलाके में तमाम सब्जियों की खेती का इंतजाम किया जा रहा है। इस इलाके में सब्जियों की ग्रोथ के अनुकूल माहौल बनाकर खेती की जा रही है। यहां पर गोभी, टमाटर, मिर्च, बैंगन समेत तमाम सब्जियों को उगाया जा रहा है। DIHAR के वैज्ञानिक डॉ. दोरजे का कहना है कि सेना जिस इलाके में तैनात है, वह बहुत ऊंचाई पर है। ऐसे में माइक्रोग्रीन टेक्नॉलजी के जरिए उगाई गई सब्जियों को इनके लिए पहुंचाया जाएगा। इन सब्जियों से जवानों को बर्फीले क्षेत्र में भी खाने की कोई कमी नहीं होगी।

अंडरग्राउंड ग्रीन हाउस में सब्जियां स्टोर करने की तैयारी
DIHAR के निदेशक ओपी चौरसिया ने कहा कि हमारे पास यहां पर एक अंडरग्राउंड ग्रीन हाउस भी मौजूद है। ऐसे में हम ये भी कोशिश कर रहे हैं कि जिन सब्जियों को यहां पर उगाया जा रहा है, उसे किस तरह से ठंड के मौसम के लिए स्टोर किया जा सके। हम लोगों ने ऐसे स्टोर बनाए हैं, जहां पर जीरो एनर्जी के साथ 4-5 महीने तक तमाम सब्जियां स्टोर की जा सकती हैं।

एलएसी पर ठंड में तैनात जवानों के लिए तैयारी
बता दें कि एलएसी पर जारी गतिरोध के बीच भारतीय सेना किसी भी तरह से जवानों को पीछे हटाने के मूड में नहीं है। वास्तविक नियंत्रण रेखा से लेकर जम्मू-कश्मीर और उत्तर भारत के तमाम एयरबेस तक चीन की हर हरकत का जवाब देने की तैयारी की गई है। चीन से जिस इलाके में विवाद है, वहां आने वाले वक्त में कड़ाके की ठंड पड़ती है। ऐसे में ठंड के इस वक्त में जवानों को कोई दिक्कत ना हो, इसके लिए भारतीय सेना ने हर तरीके के इंतजाम कराना शुरू कर दिया है।

Source : Agency