दुर्ग
चरोदा रेलवे यार्ड में बुधवार को खाली मालगाड़ी के दो वैगन पटरी से उतर गए। घटना के समय मालगाड़ी की गति कम थी इसके बावजूद करीब तीन सौ मीटर तक वैगन घिसटता चला गया। पहिए स्लीपर को तोड़ते हुए फंस गए थे। इस घटना के कारण यार्ड के कई विभागों और जी केबिन देवबलोदा जानी वाली सड़क बंद हो गई। करीब डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद वैगन को काटकर अलग किया जा सका। घटना यार्ड में होने से रेल यातायात प्रभावित नहीं हुई।

चरोदा रेलवे के यार्ड में क्रू लाबी के समीप ही शंटिंग सेक्शन में यह घटना सुबह 7.30 बजे के करीब हुई। आई केबिन की ओर से मालगाड़ी रिशेप्सन यार्ड देवबलोदा की ओर जा रही थी। इस दौरान ही मालगाड़ी के बीच के हिस्से के एक वैगन का पहिया पटरी से उतर गया। थोड़ी देर बाद इसके पीछे का वैगन भी पटरी से उतर गया। मालगाड़ी की गति इस दौरान धीमी थी, जिसके चलते वैगन पलटने से बच गया। बताया जाता है कि चालक ने मालगाड़ी के वैगन उतरने का आभास होते ही इमरजेंसी ब्रेक लगाया और फिर गार्ड के मध्यम से कंट्रोल रूम को सूचना दी।घटना जिस जगह हुई वहां पर जी केबिन-देवबलोदा जाने का रास्ता है। इसके अलावा रेलवे के कई विभागों में भी इसी रास्ते से कर्मचारी आनाजाना करते हैं। इस दुर्घटना से पूरा रास्ता बंद हो गया।

यहां से आने जाने वाले कर्मचारियों को इंटरनेट मीडिया पर मैसेज भेजकर सिरसा गेट व देवलौदा की ओर से आने के लिए के लिए कहा गया। क्षतिग्रस्त वैगन हटाने व मालगाड़ी को आगे बढ़ाने में करीब दो घंटे से भी ज्यादा का समय लग गया। घटना की वजह स्पष्ट नहीं हो पाई है। यह खाली मालगाड़ी फिटनेस जांच के बाद यार्ड में भेजी जा रही थी।

Source : Agency