हरदा / इटारसी। बदमाशों ने इटारसी-भुसावल के बीच भिरंगी स्टेशन के आउटर पर मंगलवार की रात बदमाशों ने ग्रीन सिग्नल पर लाल जिलेटिन लगाकर दो ट्रेनें रोकी और एसी कोच में यात्रियों को लूट लिया। इसके बाद बदमाशों ने तीसरी ट्रेन को लूटने की कोशिश की। लेकिन सिग्नल को देखकर ड्राइवर को शक हुआ तो उसने वहां ट्रेन नहीं रोकी, जिससे यह ट्रेन लुटने से बच गई है।

मंगलवार को लोकमान्य तिलक से प्रतापगढ़ जा रही उद्योग नगरी एक्सप्रेस को रात करीब 1:40 बजे नकाबपोश बदमाशों ने चेन पुलिंग कर और ग्रीन सिग्नल पर लाल जिलेटिन लगाकर रोका। इसके बाद एसी कोच ए-1 और बी-3 कोच के यात्रियों से बैग व जेवर लूट बदमाश आउटर पर उतर गए।

यह ट्रेन करीब 30 मिनट तक जंगल में खड़ी रही। इसके एक घंटे बाद 2:38 बजे बदमाशों ने पुणे-जबलपुर एक्सप्रेस को इसी तरह से रोककर बी-4 कोच में लूटपाट की। वारदात स्थल पर जीआरपी को यात्रियों के खाली बैग और मोबाइल मिले हैं।

इटारसी में यात्रियों ने किया हंगामा

उद्योगनगरी एक्सप्रेस का भुसावल के बाद स्टापेज भोपाल है। इटारसी में ट्रेन नहीं रुकने के कारण यात्री यहां शिकायत नहीं कर पाए। लेकिन पुणे-जबलपुर के यात्रियों ने इटारसी में ट्रेन रुकने पर हंगामा कर दिया। यात्रियों का कहना है था कि सूचना देने के बाद भी पुलिस बल मौके पर नहीं पहुंचा।

इधर अनुमान लगाया जा रहा है कि दोनों ट्रेनों में करीब 5 लाख की लूट हुई है। हालांकि उद्योग नगरी में बदमाशों ने कितने की लूटपाट की है, इसका पता नहीं चला है। इधर जीआरपी अधिकारी लूट नहीं चोरी बता रहे हैं।

ड्राइवर को शक हुआ तो नहीं रोकी ट्रेन

उद्योग नगरी और पुणे-जबलपुर एक्सप्रेस को लूटने के बाद बदमाशों ने सिग्नल पर लाल जिलेटिन डालकर कोल्हापुर-हजरत निजामुद्दीन सुपरफास्ट ट्रेन को रोकने की कोशिश की। लेकिन ड्राइवर को सिग्नल आधा लाल और आधा हरा दिखा। उसने तत्काल वाकी-टाकी से स्टेशन मास्टर से बात की और ट्रेन नहीं रोकी, जिससे यह ट्रेन के यात्री लुटने से बच गए।

जीआरपी इटारसी के थाना प्रभारी बीएस चौहान ने बताया कि बीती रात दो ट्रेनों में अज्ञात बदमाशों ने एसी कोच में सोते वक्त यात्रियों के बैग चोरी किए हैं। देर रात पूरे इलाके में सर्चिंग की गई है। मैसेज पर भोपाल जीआरपी टीम ने जाकर एफआईआर दर्ज की है। इसकी डायरी यहां आने पर खंडवा भेजी जाएगी। यात्रियों से करीब 80 हजार स्र्पए का माल चुराया गया है। 

 

Source : desk