एक शोध में मालूम हुआ है कि ब्रिटेन में लोग हर साल 720 मिलीयन (72 करोड़) अंडे फेंक देते हैं। ये साल 2008 का तीन गुना है जब 139 मिलीयन पाउंड के अंडे फेंक दिए गए थे। ब्रिटिश एग इंडस्ट्री काउंसिल के अनुसार आंकड़े देखें तो इंग्लैंड में बीते साल कुल 7.2 बिलीयन अंडे बिके थे जो उससे पिछले साल बिके अंडों से 4 प्रतिशत अधिक हैं। लेकिन शोध में मालूम हुआ है कि 29 प्रतिशत लोग यहां अंडों को फेंक देते हैं।

दरअसल लोग यहां अंडों के एक्सपायर हो जाने के चलते उन्हें फेंक देते हैं और खाने से बचते हैं। साकाहारी और मिश्राहारी लोगों की संख्या बढ जाने के चलते अंडों की बिक्री में बढ़ोतरी हुई है लेकिन समय पर न खा पाने से अंडों की बेस्ट बिफोर डेट निकल जाती है और लोग उन्हें खाने की जगह फेंक देने में समझदारी समझते हैं।

शोध में पाया गया कि सिर्फ 23% ब्रिटेन के लोग पानी के परीक्षण से परिचित थे जिससे पता चलता है कि क्या अंडे अभी भी खाने के लिए पर्याप्त ताजा हैं। ऐसे में वे डेट देखकर अंडे को फेंक देते हैं। परीक्षण में यदि अंडे ठंडे पानी के एक कटोरे के नीचे डूब जाते हैं और उनके किनारों पर सपाट होते हैं, तो वे बहुत ताज़ा होते हैं। यदि वे कम ताजे हैं, लेकिन खाने के लिए अच्छे हैं, तो वे सबसे नीचे एक छोर पर खड़े होंगे। यदि वे सतह पर तैरते हैं, तो वे खाने के लिए पर्याप्त ताजा नहीं होते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि जैसे-जैसे अंडा पुराना होता है, हवा के थैली का आकार बढ़ता जाता है, जिससे यह तैरता है।

फूड वेस्ट एप टू गुड टू गो के को-फाउंडर जैमी क्रमी का कहना है कि -'अगर आप डेट देखकर अंडे फेंक देते हैं तो शायद आप गलती से अच्छा खाना फेंक रहे हैं। खाना व्यर्थ करना एक बड़ी समस्या है। कुछ समझदारी से हम खाना बचा सकते हैं।'

Source : Agency