होशंगाबाद। आगामी लोकसभा चुनाव में काम आने वाली मशीन की एक नही अनेक विशेषताए हैं, इसमें तीन भाग होंगे पहला भाग कंट्रोल यूनिट, दूसरा भाग बैलेट यूनिट और तीसरा भाग वीवीपैट।  चुनाव के दिन वोट डालने वालो को अपने वोट की पर्ची वीवीपैट में दिखाई देगी जिस पर वही नाम और चुनाव चिन्ह होगा जिसे वोट दिया गया है। यदि उस प्रत्याशी को वोट नही गया है तो मतदाता चैलेंज वोट डाल सकता है लेकिन यदि चैलेंज गलत पाया गया तो वोटर को 6 माह की जेल और एक हजार रूपए का जुर्माना हो सकता है।

           वोटिंग मशीन की खास बात यह है कि यह केवल एक बार ही प्रोग्राम की जा सकती है। यह सेल्फ चैकिंग मशीन है जो हर बार शुरू करते ही अपने सभी हिस्से खुद चेक करती है। चैकिंग करते समय 7 खाली पर्ची निकालनी है। इस मशीन में थर्मल पिं्रटर लगा हुआ है। यह मशीन चुनाव के शुरू और खत्म होने का समय बताती है। इस मशीन से जुड़ा टाईमर 10 साल तक चलता रहता है। वीवीपैट में 7 सेकेंड तक पर्ची दिखाई देती है। मशीन से कोई भी बाहरी उपकरण नही जोड़ा जा सकता है। यह मशीन केवल इसके लिए बनाए गये उपकरणो को ही पढ़ेगी।