मतगणना कर्मियों का प्रशिक्षण हुआ आयोजित

होशंगाबाद । लोकसभा निर्वाचन 2019 के अंतर्गत होशंगाबाद जिले की चारों विधानसभाओं की मतगणना 23 मई को शासकीय गृहविज्ञान महाविद्यालय होशंगाबाद में की जाएगी। मतगणना कार्य के लिए मतगणनाकर्मियों का प्रशिक्षण कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित किया गया। प्रशिक्षण में शामिल मतगणना कर्मियों को संबोधित करते हुए कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी शीलेंद्र सिंह ने कहा कि मतगणना का समस्त कार्य पूरी सावधानी एवं सतर्कता से करें। छोटी सी गलती से परिणाम पर प्रभाव पड़ता है एवं मतों का मिलान न होने पर पुन: गणना करनी पडती है। उन्होंने कहा कि 23 मई को प्रात: 8 बजे मतगणना प्रारंभ होगी। सबसे पहले डाक मतपत्रों की गणना प्रारंभ की जाएगी। डाक मतपत्रों की गणना प्रारंभ होने के आधा घंटे बाद ईवीएम के मतों की गणना प्रारंभ होगी। कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि यदि ईवीएम में मतदान कर्मियों द्वारा क्लोज बटन नहीं दबाया गया है तो तत्काल इसकी सूचना सहायक रिटर्निंग अधिकारी को दे। मतगणना की प्रक्रिया पर चर्चा करते हुए कलेक्टर ने कहा कि ईवीएम में रिजल्ट का बटन दबाने पर प्रत्येक उम्मीदवार को प्राप्त मतों की संख्या एक के बाद एक डिस्प्ले होंगी । इन संख्याओं को सावधानी पूर्वक निर्धारित प्रपत्र में नोट करना है। गणना सहायक के साथ ही माइक्रो ऑब्जर्वर को भी मतो की संख्या नोट करनी है। कलेक्टर श्री सिंह ने बताया कि इस बार मतगणना में विधानसभा की पाँच वीवीपैट मशीनों की पर्चियों की गणना की जाएगी। उन्होंने इस प्रक्रिया में अत्यंत सावधानी बरतने के निर्देश देते हुए कहा कि एक-एक पर्ची सँभालकर निर्धारित खण्डों में रखनी है। साथ ही यह भी सुनिश्चित करना है कि वीवीपैट के ड्रॉप बॉक्स में एक भी पर्ची बाकी न रहे। उन्होंने कहा कि मतगणना कर्मियों का तृतीय एवं अंतिम रैंडमाइजेशन मतगणना दिवस पर प्रात: 5 बजे किया जाएगा। इसके द्वारा उन्हें निर्धारित विधानसभा में टेबल आवंटित की जाएगी। उन्होंने सभी मतगणना कर्मियों को अनिवार्य रूप से प्रात: 7 बजे आवंटित टेबल पर मौजूद रहने के निर्देश दिए।

      प्रशिक्षण में जिला पंचायत सीईओ एवं नोडल अधिकारी प्रशिक्षण प्रबंधन एसएस रावत ने मतगणना से संबंधित विभिन्न कानूनी प्रावधानों तथा जिले के मतगणना केंद्र में मतगणना के लिए तैयार प्लान के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सभी विधानसभाओं में ईवीएम के मतों की गणना के लिए 14-14 टेबल लगाए जाएॅगे। प्रत्येक टेबल पर एक गणना पर्यवेक्षक, एक गणना सहायक और एक माइक्रों ऑब्जर्बर नियुक्त किए जाएॅगे। अभ्यर्थी प्रत्येक टेबल के लिए एक गणना एजेंट नियुक्त कर सकते है। प्रशिक्षण में मास्टर ट्रेनर पंकज दुबे द्वारा मतगणना की संपूर्ण प्रक्रिया की विस्तार जानकारी दी गई। इसके अलावा मतगणना कर्मियों द्वारा भरे जाने वाले प्रपत्रों की भी जानकारी दी गई। प्रशिक्षण में अपर कलेक्टर केडी त्रिपाठी सहित समस्त सहायक रिटर्निंग अधिकारी एवं मतगणना कर्मी उपस्थित थे।