होशंगाबाद। निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार लोकसभा निर्वाचन 2019 के तहत 23 मई को होने वाली मतगणना की शुरूआत डाक मतपत्रो की गणना से होगी। लेकिन इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन में डाले गये मतो की गणना शुरू करने के लिए डाक मतपत्रो की गणना खत्म होने का इंतजार नही किया जायेगा। निर्वाचन आयोग के निर्देशो के अनुसार ईव्हीएम के मतो की गणना का काम डाक मतपत्रो की गणना शुरू होने के आधा घंटे बाद शुरू किया जा सकेगा। हालाकि आयोग ने अपने निर्देशो में यह भी कहा है कि ईव्हीएम के आखरी दौर के पहले वाले चक्र (पेनल्टीमेट राउंड) के मतो की गणना का काम डाक मतपत्रों की गणना का काम खत्म हो जाने के बाद ही शुरू किया जाना चाहिए। आयोग के निर्देशो के अनुसार मतगणना राउंडवार संपन्न होगी। निर्वाचन आयोग द्वारा तैनात प्रेक्षक प्रत्येक दौर में मतगणना की रेंडम जाँच करेंगे, इसके अलावा आयोग के रिकार्ड के लिए मतगणना कक्षो की वीडियो रिकार्डिंग भी कराई जायेगी। मतगणना के पूर्व गणना पर्यवेक्षक इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन के केरिंग केस के नंबर तथा मशीन पर अंकित नंबर का मिलान करेंगे और मशीन अभ्यर्थी के एजेंट को भी दिखायेंगे। साथ ही ईव्हीएम में लगी सील भी अभ्यर्थियों के ऐजेंटो को दिखाई जायेंगी। इसके बाद कंट्रोल यूनिट का टोटल बटन दबाकर डाले गये कुल मतो की संख्या ज्ञात की जायेगी, इसका मिलान पीठासीन अधिकारी द्वारा मत लेखा में दर्ज मतो की संख्या में से किया जायेगा। मिलान नही होने पर जानकारी रिटर्निंग अधिकारी को दी जायेगी। इस स्थिति में रिटर्निंग अधिकारी के आदेश के बाद ही आगे की मतगणना होगी। संबंधित विधानसभा क्षेत्र के चुनाव प्रेक्षक के काउंटर हस्ताक्षर के बाद ही रिटर्निंग अधिकारी राउंडवार परिणामों की घोषणा करेंगे।