इटारसी। शहर में लगातार नीचे जा रहे जलस्तर और बढ़ते जलसंकट पर चिंता जताते हुए पिछले दिनों किये गये वायदे के मुताबिक मंगलवार को दोपहर में विधायक डॉ.सीतासरन शर्मा ने जल आवर्धन योजना के मेहराघाट संयंत्र का निरीक्षण किया। उन्होंने यहां काफी बारीकी से वाटर ट्रीटमेंट प्लांट, फिल्टर प्लांट, समवेल, इंटेकवेल आदि का निरीक्षण कर पेयजल सप्लाई के विषय में जानकारी हासिल की। निरीक्षण के वक्त विधायक डॉ. शर्मा के साथ मप्र तैराकी संघ अध्यक्ष पीयूष शर्मा, भूपेन्द्र चौकसे, राजू बैस आदि मौजूद थे। 
तवा में पानी कम है
दरअसल, विधायक डॉ. शर्मा को जानकारी मिली थी कि तवा में पानी कम है। उन्होंने वहां पहुंचकर निरीक्षण किया और मौजूद तकनीकि कर्मचारियों से इंटेकवेल तक अधिक मात्रा में पानी लाने की संभावना पर विचार किया। दरअसल, मेहराघाट में ही नगर पालिका के संयंत्र से करीब डेढ़ किलोमीटर पहले रेलवे का जलसंयंत्र है। रेलवे के जलसंयंत्र के लिए वहां के कर्मचारी केनॉल बनाकर अपनी तरफ पानी का रुख मोड़ लेते हैं जिससे आगे अधिक मात्रा में पानी नहीं आ पाता है। यही कारण है कि नगर पालिका के संयंत्र तक पर्याप्त पानी नहीं आ पा रहा है। कुछ पानी डंगरवाड़ी वाले अपनी तरफ कर लेते हैं जिससे भी पानी की कम मात्रा इंटेकवेल तरफ आती है। 
संयंत्र में कम आ रहा पानी
दरअसल, पानी की बहुत कम मात्रा जलसंयंत्र की तरफ आ रही है। वहां लेगी मोटरें पर्याप्त क्षमता से पानी नहीं खींच पा रही हैं और फिल्टर प्लांट में लगी तीन में से केवल एक ही मोटर चल पा रही है जिससे पर्याप्त पानी समवेल तक नहीं आ पा रहा है। इन हालात में शहर को जितने पानी की आपूर्ति की जानी चाहिए वह नहीं हो पा रही है। इन सारे हालात को विधायक डॉ. शर्मा ने देखा और वहां मौजूद तकनीकि अमले से चर्चा कर निर्देश दिये हैं कि यदि केनॉल बनाकर अधिक पानी इंटेकवेल तक लाया जा सकता है तो लाया जाये। दो दिन में यदि स्थिति में सुधार नहीं आया तो फिर जल संसाधन विभाग और जिला प्रशासन से बात करके तवा से कुछ मात्रा में पानी छोडऩे के विकल्प पर बात की जाएगी।