समयसीमा बैठक हुई संपन्न

होशंगाबाद। कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में साप्ताहिक समयसीमा बैठक कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह की अध्यक्षता में संपन्न हुई। बैठक में कलेक्टर श्री सिंह ने जिले के समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों को निर्देशित किया कि वे अपने मुख्यालय पर ही रहे। कलेक्टर ने शासकीय प्राथमिक शाला साकेत के शिक्षक रामविलास कामले की शाला में बिना अनमुति के अनुपस्थित रहने पर गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए जिला शिक्षक समन्वयक को शिक्षक का एक माह को वेतन काटने के निर्देश दिए। शिक्षकों के मुख्यालय पर न रहने के कारण शिक्षा की गुणवत्ता प्रभावित हो रही है। उन्होंने शिक्षा की गुणवत्ता पर ज्यादा से ज्यादा ध्यान देने को कहा। उन्होंने कहा कि शिक्षको की शिक्षा के साथ-साथ शाला की उचित व्यवस्था की जिम्मेदारी भी निभाना चाहिए। उन्होंने जिला परियोजना समन्वयक, जिला शिक्षा अधिकारी एवं सहायक आयुक्त आदिवासी विकास को निर्देशित किया कि जो शिक्षक अपने मुख्यालय पर निवास नही कर रहे हैं उनके विरूद्ध कड़ी कार्यवाही करे। कलेक्टर ने शिक्षको के अटेचमेंट बंद करने के निर्देश देते हुए कहा कि शिक्षको के अटेचमेंट अत्यावश्यक होने पर ही किये जाए। गोद लिए स्कूलो का निरीक्षण करने के निर्देश देते हुए कहा कि जिन अधिकारियों ने स्कूल गोद नही लिए है वे भी एक स्कूल गोद लें। उन्होंने समस्त एसडीएम को अपने क्षेत्रो के अस्पतालों, स्कूलो , आंगनबाड़ी केन्द्रो का निरन्तर निरीक्षण करने के निर्देश दिए। कलेक्टर श्री सिंह ने सीएम हैल्प लाइन में लंबित शिकायतों की समीक्षा करते हुए एल 3 एवं एल 4 पर लंबित शिकायतों के निराकरण के लिए प्रतिवेदन भेजने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी शिकायतों का गुणवत्ता पूर्ण निराकरण पर ध्यान दें। उन्होंने राजस्व विभाग तथा पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग में लंबित शिकायतों की तहसीलवार तथा जनपदवार समीक्षा कर त्वरित निराकरण के निर्देश दिए। उन्होंने सभी मुख्य नगर पालिका अधिकारियों को दुकानदारों द्वारा सड़को पर सामान रखकर किये जाने वाले अतिक्रमण को हटाने के निर्देश दिए।

      बैठक में कलेक्टर ने कहा कि वर्षा की स्थिति के मद्देनजर बाढ़ राहत के सभी संसाधन उपलब्ध कराना सुनिश्चित करे। उन्होंने मछुआरो, तैराको आदि को चिन्हित कर उनकी सूची बनाने के निर्देश दिए ताकि बाढ़ की स्थिति में सभी का सहयोग मिल सके। उन्होंने बाढ़ प्रभावित होने वाले क्षेत्रो के लोगो के लिए चिन्हित स्थानो ही जानकारी ली और कहा कि ऐसी स्थिति में शिविरो में ठहरने, भोजन, पेयजल, दबाईयाँ  आदि की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। कलेक्टर ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिए कि वर्षा की स्थिति को देखते हुए मेडिकल स्टाफ के अवकाश निरस्त करें। सभी प्राथमिक एवं उप स्वास्थ्य  केन्द्रो पर दवाईया एवं समस्त प्राथमिक मेडिकल सुविधाएं सुनिश्चित करें इसके साथ ही आशा कार्यकर्ताओ को प्रशिक्षित कर उन्हें वर्षा जनित रोगो की दवाइयॉ मुहैया कराए ताकि गांवो में वे दवाईयाँ उपलब्ध करा सके। इस अवसर पर कलेक्टर ने दस्तक अभियान की भी समीक्षा की और स्वास्थ्य एवं महिला बाल विकास विभाग के अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए। कलेक्टर ने दस्तक अभियान के दल को निर्देशित किया कि सभी बच्चो की जाँच सुनिश्चित की जाए कोई भी बच्चा जाँच से वंचित न रहे। जाँच में अनियमितता की स्थिति पाये जाने पर सख्त कार्यवाही की जाएगी।

      बैठक में अपर कलेक्टर केडी त्रिपाठी, जिला पंचायत सीईओ आदित्य सिंह, समस्त एसडीएम एवं अधिकारीगण मौजूद थे।