इंदौर
 दो दिनों तक चली लंबी बैठक और संशोधन के बाद आखिरकार प्रशासक ने इंदौर नगर पालिका निगम के बजट को स्वीकृती दे दी. वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए 5162 करोड़ के बजट पर मौहर लगाई गई. ये बजट 82 करोड़ के घाटे का बजट है. प्रस्तावित बजट को निगम आयुक्त ने 7 जून को संभागायुक्त और निगम प्रशासक के सामने पेश किया.

बजट में अलग-अलग विभागों पर खर्च होनी वाली मद को लेकर अधिकारियों से लगातार चर्चा की गई, नगर पालिका निगम ने बजट में सबसे ज्यादा प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए 700 करोड़, जल प्रदाय के लिए 550 करोड़, सीवरेज के लिए 460 करोड़ और जनकार्य के लिए 308 करोड़ का प्रावधान किया है.

परिषद भंग होने के बाद दूसरा बजट

वहीं, ट्रैफिक मैनेजमेंट के लिए 100 करोड़ रखे गए हैं. इसके अलावा कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए 50 करोड़ का अतिरिक्त प्रावधान किया गया है. निगम परिषद भंग होने के बाद ये दूसरा बजट है, जिसे संभागायुक्त ने पेश किया है. दरअसल, मौजूदा प्रशासक , इंदौर कमिश्नर पवन शर्मा द्वारा सभी विभागों के आय-व्यय की समीक्षा का गहन अध्ययन किया गया.
एक-एक विभाग की समीक्षा

मंगलवार को कमिश्नर शर्मा ने अपर आयुक्त एवं निगम कमिश्नर के साथ एक-एक विभाग की समीक्षा की. इस दौरान अध्यन में पाई गई कमियों में संशोधन करवाया गया. इसके बाद दो दिनों तक चले मंथन के बाद इंदौर निगम कमिश्नर प्रतिभा पाल और कमिश्नर पवन शर्मा ने बजट पास कर दिया. गौरतलब है कि बजट में कोई नया टैक्स नहीं लगाया गया है. स्वच्छता, सड़क, पानी, प्रकाश, सीवरेज और बग़ीचों के विकास पर खास फ़ोकस किया गया.

पॉइंटर्स में समझें बजट

5162 हजार करोड़ का बजट

82 करोड़ के घाटे का बजट

बजट में राहत

कोई नया टैक्स नहीं लगाया

स्वच्छता,सड़क,पानी,प्रकाश,सीवरेज,और बग़ीचों के विकास पर  खास फ़ोकस

प्रधानमंत्री आवास योजना को  प्राथमिकता

विकास कार्यों के लिए बड़ी राशि का प्रावधान

मास्टर प्लान की सड़कों  को दी गई प्राथमिकता

खेल गतिविधियों के लिए खेल प्रकोष्ठ का गठन

बजट में कोरोना के लिए रखी बड़ी राशि

Source : Agency