जबलपुर
एंटी कोरोना वैक्सीन लगवाने में लोग आनाकानी कर रहे हैं. तरह तरह की अफवाहें हैं. इसकी तोड़ जबलपुर की एक ग्राम पंचायत ने निकाल ली. उसने ऐलान कर दिया कि वैक्सीन नहीं तो राशन नहीं. यानि अब उन लोगों को राशन और बाकी सरकारी सुविधाओं का लाभ नहीं दिया जाएगा जिन्होंने अब तक वैक्सीन नहीं लगवाया है.

शहर के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में वैक्सीनेशन को बढ़ावा देने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं. इस बीच जबलपुर के शहपुरा ब्लॉक की सिहोदा ग्राम पंचायत से एक अहम तस्वीर सामने आई है. वहां ऐसे ग्रामीण जो खुद वैक्सीनेशन नहीं करा रहे हैं उन्हे सबक सिखाने के लिए पंचायत का फैसला चर्चा का विषय बन गया है.

जबलपुर से लगभग 30 किलोमीटर दूर स्थित सिहोदा पंचायत ने कोरोना की रोकथाम के लिए कड़ा फैसला ले लिया है. यदि सरकार की किसी भी योजना का ग्रामीणों को लाभ लेना है तो उसे वैक्सीन लगवाना जरूरी होगा. यदि कोई व्यक्ति वैक्सीन नहीं लगवाता है तो उसे सरकारी योजनाओं का लाभ भी नहीं दिया जाएगा.

पंचायत के इस आदेश के बाद अब लोग वैक्सीन लगवाने निकले हैं. वैक्सीनेशन के प्रति लोगों का रुझान इस कदर बढ़ा कि देखते ही देखते 1200 की आबादी वाले इस गांव में 85 प्रतिशत लोग टीका लगवा चुके हैं.

पंचायत सह सचिव और सरपंच के अनुसार सोशल मीडिया में प्रसारित हो रही कई तरह की अफवाहों के कारण ग्रामीणों के अंदर डर का माहौल बन गया था. लोग वैक्सीन लगवाने से कतरा रहे थे. ऐसे में इसका असर आसपास की पंचायतों में भी देखा जाने लगा था. पहले नरमी के साथ लोगों को जागरुक करने का प्रयास किया गया लेकिन लोग अफवाहों पर ज्यादा भरोसा कर रहे थे. यही वजह रही कि पंचायत को सख्त निर्णय लेना पड़ा. इस फैसले ने गांव की तस्वीर बदल दी. अन्य पंचायतें भी अब इस तरह के सख्त कदम उठाने पर विचार कर रही हैं. ऐसे में कहा भी जाता है कि जब लोगों की जिंदगी को बचाना हो तो कई बार सख्त निर्णय भी बड़ा लाभ दे जाते है.

Source : Agency