बर्मिंघम

नवंबर 2019 के बाद से विराट कोहली के बल्ले से इंटरनेशनल क्रिकेट में कोई शतक नहीं निकला है। दुनिया भर के क्रिकेट फैन्स को विराट की 71वीं इंटरनेशनल सेंचुरी का बेसब्री से इंतजार है। बर्मिंघम में भारत और इंग्लैंड के बीच पांच मैचों की सीरीज का आखिरी रिशेड्यूल्ड टेस्ट मैच 1 जुलाई से खेला जाना है और इस मैच से पहले हेड कोच राहुल द्रविड़ ने पहली बार विराट की फॉर्म और 71वीं सेंचुरी को लेकर खुलकर अपनी बात रखी है।

इंग्लैंड के खिलाफ शुक्रवार से शुरू हो रहे पांचवें टेस्ट से पहले द्रविड़ ने कहा, 'खिलाड़ी अपने करियर के दौरान अलग-अलग दौर से गुजरते हैं और मुझे नहीं लगता कि विराट में प्रेरणा या ललक की कमी है।' उन्होंने कहा, 'हमेशा जोर शतक पर नहीं रहना चाहिए। केपटाउन में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ कठिन हालात में बनाए गए 79 रन भी उम्दा थे। वह सेंचुरी तक नहीं पहुंचे लेकिन वह बढ़िया पारी थी। उसने इतने ऊंचे मानदंड बनाए हैं कि लोग शतक को ही कामयाबी मानते हैं लेकिन एक कोच के नजरिये से मैं उससे मैच जिताने वाला योगदान चाहता हूं, भले ही वह 50 या 60 रन क्यों ना हो।'

विराट कोहली ने 22 नवंबर 2019 को कोलकाता में बांग्लादेश के खिलाफ 136 रनों की पारी खेली थी। इसके बाद से विराट के बल्ले से एक भी सेंचुरी नहीं निकली है। विराट के बल्ले से हालांकि हाफसेंचुरी आई हैं, लेकिन वह इसे शतक में तब्दील नहीं कर पाए हैं। राहुल द्रविड़ ने साथ ही विराट के लिए कहा कि उन्होंने अभी तक जितने खिलाड़ियों को देखा है, उनमें विराट सबसे ज्यादा मेहनती क्रिकेटरों में से एक हैं।

 

Source : Agency