मुंबई
नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) ने स्पाइसजेट की उड़ानों पर पाबंदी का आदेश बरकरार रखा है। डीजीसीए ने कहा कि भले ही पिछले कुछ समय में सुरक्षा घटनाओं की संख्या में उल्लेखनीय कमी आई है, इसके बावजूद स्पाइसजेट (SpiceJet) को 50 फीसदी से ज्यादा उड़ान को मंजूरी नहीं दी जा सकती है। आपको बता दें कि DGCA ने सुरक्षा और तकनीकी खामियों की शिकायत मिलने पर स्पाइसजेट को आदेश दिया था कि वो 29 अक्टूबर तक केवल 50 फीसदी उड़ानें ही संचालित कर सकता है।

पायलटों की गिरी गाज

उधर, विमान कंपनी पर 50 प्रतिशत की रोक के चलते स्पाइसजेट ने अपने 80 पायलटों को तीन महीने के लिए बिना वेतन अवकाश पर भेज दिया है। हालांकि विमानन सेवा कंपनी ने बताया कि यह कदम अस्थायी उपाय के तहत उठाया है। स्पाइसजेट ने बयान में कहा, यह उपाय एयरलाइन की किसी कर्मचारी को नौकरी से बाहर नहीं करने की नीति के अनुरूप है। कोविड महामारी के दौरान भी एयरलाइन ने कर्मचारियों को नौकरी से नहीं निकाला था। जबरन बिना वेतन छुट्टी पर भेजे गए पायलट, एयरलाइन के बोइंग और बाम्बार्डियर बेड़े के हैं।

Source : Agency